जिले में भी प्रारंभ हुआ पीसीवी वैक्सीन लगना

शेयर करें:

बड़वानी @ विश्व स्वास्थ्य दिवस से जिले में भी बच्चो को निःशुल्क पीसीवी वैक्सीन लगाने का अभियान प्रारंभ किया गया। शनिवार को प्रातः 11 बजे से प्रारंभ हुए इस अभियान का शुभारंभ जिला चिकित्सालय में बच्चो को टीका लगाकर किया गया। इस दौरान नगर पालिका उपाध्यक्ष कुलसुम कापड़िया, पार्षद सुनिल यादव, रोटरी क्लब के पदाधिकारी अजीत जैन, लायंस क्लब के पदाधिकारी श्रीराम यादव, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बीएस सैत्या, डॉ. सुरेखा जमरे, सिविल सर्जन डॉ. अनिता सिंगारे सहित बड़ी संख्या में बच्चो के पालकगण उपस्थित थे।

इस दौरान डॉ. बीएस सैत्या ने बताया कि पीसीवी वैक्सीन न्यूमोकोकस बैक्टीरिया से होने वाले न्यूमोनिया एवं अन्य बीमारियों से बचाव का सबसे कारगर तरीका है। इस वैक्सीन का इस्तेमाल से बच्चो में न्यूमोनिया बीमारी और बाल मृत्यु दर में कमी आएगी। पीसीवी महंगी वैक्सीन है, जो अभी तक केवल प्रायवेट डॉक्टरो के पास ही उपलब्ध थी। प्रायवेट में पीसीवी की एक डोज की कीमत लगभग तीन से चार हजार रुपये है।

भारत सरकार अब इसे नियमित टीकाकरण कार्यक्रम के अंतर्गत मुफ्त में उपलब्ध कराएगी। पीसीवी वैक्सीन तीन टीको के रूप मे दी जायेगी। पहला टीका बच्चे के डेढ़ महीने के होने पर, दूसरो टीका बच्चे के साढ़े तीन महिने के होने पर तथा तीसरा टीका बच्चे के नौ माह के होने पर लगाया जायेगा। पीसीवी पूरी तरह सुरक्षित एवं कारगर वैक्सीन है। पीसीवी वैक्सीन के लगने से गंभीर दुष्प्रभाव की संभावना ना के बराबर है।

वैक्सीन लगने की जगह पर हल्का दर्द या हल्का बुखार हो सकता है। वैक्सीन से होने वाले फायदे इसके मामूली साईडइफेक्ट से कही ज्यादा है। अगर बच्चे को बुखार आता है तो पैरासिटामोल की एक खुराक निर्धारित मात्रा में दी जा सकती है। समय से पहले जन्मे बच्चे (9 माह से पहले) को भी पीसीवी वैक्सीन का पहला डोज डेढ़ माह की उम्र पर दिया जा सकता है।