पाकिस्तान में 98 लोगों से भरा विमान क्रैश, रिहायशी इलाके में उठा धुएं का गुबार

शेयर करें:

कराची। पाकिस्तान इंटरनैशनल एयरलाइंस (PIA) का विमान एयरबस A320 कराची के जिन्ना अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के पास एक रिहायशी इलाके में क्रैश हो गया। पीआईए के प्रवक्ता अब्दुल सत्तार ने बताया कि विमान में कुल 90 यात्री सवार थे। सत्तार ने कहा कि विमान में यात्रियों के अलावा 8 क्रू मेंबर्स थे। कहा जा रहा है कि पाकिस्तान को एयरबस A320 एक चीनी कंपनी से लीज पर लिया गया था।

रिहायशी इलाके में उठा धुएं का गुबार
डॉन न्यूज के मुताबिक, विमान ने लाहौर से कराची के लिए उड़ान भरी थी और लैंडिंग से ठीक पहले कराची की मॉडल कॉलोनी में क्रैश कर गया। इलाके में प्लेन के टकराते ही घरों में आग लग गई और धमाकों की आवाज सुनाई देने लगी। गली में इतना धुआं भर गया कि कुछ भी देखना मुश्किल हो गया।

करीब आधा दर्जन घर बुरी तरह क्षतिग्रस्त बताए जा रहे हैं। पाकिस्तान की फायर ब्रिगेड की गाड़ियां आग पर काबू पाने में जुटी हैं। गलियां तंग होने के कारण फायर ब्रिगेड को रेस्क्यू ऑपरेशन में काफी मुश्किल हो रही है।

पाकिस्तान सरकार की ओर से अब तक इस हादसे में मरने या घायल होने वालों से जुड़ी कोई सूचना नहीं दी है। पाकिस्तान में कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए लॉकडाउन खोले जाने के बाद एक बार फिर हवाई उड़ानें शुरू की गई हैं। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने इस हादसे से प्रभावित परिवारों को सांत्वना देते हुए अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा है, “पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के विमान दुर्घटनाग्रस्त होने से दुखी और आहत हूँ. मैं पीआईए के सीईओ अरशद मलिक के संपर्क में हूँ जो कि कराची के लिए निकल चुके हैं. मैं घटनास्थल पर मौजूद बचाव और राहत कर्मियों के संपर्क में हूँ क्योंकि इस समय यही प्राथमिकता है. इसमें तत्काल जांच के लिए आदेश दिए जाएंगे। मेरी प्रार्थनाएं और श्रद्धांजलि मरने वालों के परिवारों के साथ हैं.”

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार

इस हादसे को अपनी आँखों से देखने वाले उज़ैर ख़ान कहते हैं कि उन्होंने एक तेज धमाके की आवाज़ सुनी जिसके बाद वह बाहर की ओर भागे। वह कहते हैं, “चार घर बिलकुल तबाह हो गए. वहां पर बहुत आग और धुआँ निकल रहा था। वो बिलकुल मेरे पड़ोस में रहते हैं. मैं आपको ये नहीं बता सकता कि ये कितना ख़तरनाक मंजर था.”

घटनास्थल के नज़दीक रहने वालीं डॉ. कंवल नाज़िम बताती हैं कि वह घर के बाहर आईं और मस्जिद के पीछे से काला धुआँ उठते हुए देखा और कई लोगों को धुएं की ओर बढ़ते दिख रहा है।

डॉ. नाज़िम कहती हैं कि उनका घर इस हादसे के काफ़ी करीब है, इसलिए वह लोगों की चीखें सुन सकीं. इसके कुछ मिनट बाद पुलिस और रेंजर्स घटनास्थल पर पहुंचे और बचाव अभियान शुरू किया।

पाकिस्तान का ‘तीसरा सबसे बड़ा’ हादसा

हवाई दुर्घटनाओं के आंकड़े जुटाने वाली संस्था एयरक्राफ़्ट क्रैश रिकॉर्ड ऑफ़िस के मुताबिक़, पाकिस्तान में अब तक अस्सी से ज़्यादा विमान दुर्घटनाएं हो चुकी हैं जिनमें एक हज़ार से ज़्यादा लोग मारे जा चुके हैं। पाकिस्तान में सबसे बड़ा हादसा 28 जुलाई 2010 को हुआ था।पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद के पास हुए इस हादसे में 152 लोग मारे गए थे। 20 अप्रैल 2012 को इस्लामाबाद में ही हुए एक अन्य विमान हादसे में 127 लोगों की मौत हुई थी।