आरोग्यम हॉस्पिटल में समय रहते की ऑक्सीजन व्यवस्था, प्रशासन की सतर्कता से बच गई मरीजों की जान

शेयर करें:

जबलपुर। कोरोना महामारी के चलते संस्कारधानी में शासकीय अधिकारी एवं कर्मचारी दिन रात कलेक्टर कर्मवीर शर्मा के मार्गदर्शन में अपने अपने कर्तव्यों का पूर्ण ईमानदारी एवं निष्ठा के साथ निर्वहन कर रहे है इसी तारतम में कल रात्रि 1.50 बजे पर कलेक्ट्रेट कंट्रोल रूम में संदीप कुमार जायसवाल नायब तहसीलदार को संजीवनी नगर थाने के पुलिस स्टाफ द्वारा सूचना मिली कि धन्वंतरि नगर स्थित आरोग्यम अस्पताल में कोविड के 07 मरीज भर्ती है जिनमे 03 हाई फ्लो ऑक्सीजन सप्लाई में है पर अस्पताल में अभी मात्र आधे घण्टे का ही ऑक्सीजन बचा है आरोग्यम अस्पताल को ऑक्सीजन सप्लाई करने वाले वेंडर श्री राम इंटरप्राइजेज के ड्राइवर जो इनके लाइट आदित्य ऑक्सीजन प्लांट में ऑक्सीजन सिलेंडर लेने पहुचा था से पता किया गया तो उसने बताया कि उसकी बात अस्पताल में हुई है वहां अभी 2-3 घण्टे की ऑक्सीजन है जबकि वास्तविक में अस्पताल में मात्र आधे घण्टे की ऑक्सीजन ही बची थी ।

स्थिति को देखते हुए आदित्य प्लांट में अस्पताल के लिए जल्द ऑक्सीजन भेजने हेतु निर्देशित किया गया और स्थिति को गंभीर देखते हुए रात्रि समय लगभग 02 बजे मोके पर आरोग्यम अस्पताल नायब तहसीलदार संदीप जायसवाल पहुचे जहा पाया कि अस्पताल में मात्र लगभग आधे घण्टे की ऑक्सीजन बची है और प्लांट से ऑक्सीजन की गाड़ी आने में समय लग रहा है इसलिए तत्काल पुलिस की सहायता से धन्वंतरि नगर स्थित महावीर अस्पताल से ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध कराया जिससे आवश्यकता पडने पर मरीजो को निर्बाध ऑक्सीजन मिल सके ।

आरोग्यम अस्पताल और ऑक्सीजन सप्लाई करने वाले वेंडर के मध्य मिसकम्युनिकेशन के कारण यह गंभीर स्थिति उत्पन्न हुई जिससे अस्पताल में भर्ती 03 मरीजों की जान पर बन आई और समय रहते उपरोक्त व्यवस्था बनाये जाने के कारण बड़ी अप्रिय घटना होने टल गई ।

होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों से संवाद
कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा के निर्देश पर रांझी एसडीएम श्रीमती दिव्या अवस्थी ने जोन क्रमांक 17 में विजिट कर होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों से संवाद कर उनके स्वास्थ्य का हालचाल जाना तथा डॉक्टर के बताए अनुसार दवाइयां लेने को कहा।

सिटी हॉस्पिटल में उन्होंने मरीजों के परिजनों से चर्चा कर अस्पताल प्रबंधन से ऑक्सीजन व दवाइयों की उपलब्धता की जानकारी लेकर वीडियो कॉल के माध्यम से मरीजों का परिजनों से बात करने के निर्देश दिये।इस दौरान उनके साथ सीएसपी केंट सहित टीम के सदस्य साथ मे थे।