निलंबित शिक्षकों को अपमानित करने वाला आदेश हुआ रद्द

शेयर करें:

ग्वालियर ।निलंबित कर्मचारियों के कक्ष वाला आदेश निरस्त कर दिया गया । कलेक्टर के आदेश पर जिला शिक्षा अधिकरी ने किया निरस्त ।कलेक्टर ने पांच दिन पहले कलेक्ट्रेट में बनाया था निलंबित कर्मचारियों का कक्षा। गौरतलब है कि ग्वालियर कलेक्ट्रेट में डीएम के आदेश पर अब निलंबित कर्मचारियों पर भी निगरानी रहेगी. ज़िला मुख्यालय पर इनके लिए अलग से एक कक्ष बनाया गया है. जो भी कर्मचारी निलंबित होगा वो इस कक्ष में आकर अपनी उपस्थिति दर्ज कराएगा और बैठेगा.

ग्वालियर में डीएम के फरमान से निलंबित हुए कर्मचारी अब बिना किसी काम के नहीं घूम सकेंगे. कलेक्टर अनुराग चौधरी ने एक आदेश निकाला है जिसमें निलंबित कर्मचारियों के बैठने के लिए ज़िला मुख्यालय पर अलग से कक्ष बनाया गया है.
अभी तक किसी भी विभाग का कर्मचारी निलंबित होने के बाद अपने वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट नहीं करता था और वह कहां क्या कर रहा है इसकी जानकारी भी विभागों के पास नहीं होती थी. अब कलेक्टर के फरमान से न केवल जिला मुख्यालय पर बल्कि जिले के एसडीएम और तहसील कार्यालय में भी निलंबित हुए कर्मचारियों को अपनी उपस्थिति दर्ज करानी होगी.

यह ख़बर जैसे ही सोशल मीडिया पर वायरल हुई बैसे ही शिक्षकों ने इस आदेश को अपमानजनक बताते हुए विरोध जताया । इससे प्रशासन भी हरकत में आया और उसने आदेश रद्द कर दिया।