जबलपुर : जहरीली गैस के रिसाव से किसान की मौत से मुकरे अधिकारी

शेयर करें:
जबलपुर ,सिहोरा ,मंझोली :मंझोली तहसील के सुहजनी (लमकना ) में 25 अगस्त 2019 के दिन कुँए में हुए जहरीली गैस के रिसाव से किसान उमेस उर्फ खेमचंद पटेल उम्र 35 वर्ष की मौत हो गई थी घटना के बाद प्रसासन की तरफ से मौके पर पहुँची मंझोली नायब तहसीलदार श्रीमती पूजा ने 4 लाख रुपये म्रतक के परिजनों को मुआवजा देने की बात कहीँ थी लेकिन अब उनके द्वारा मुआवजा देने से इंकार किया जा रहा है इस बात से अधिकारी की करनी और कथनी पर जनता का विस्वास खत्म होता जा रहा है क्योंकि यहाँ पर एक किसान की गैस रिसाव में हुई मौत पर मुआवजे के मरहम की घोषणा नायब तहसीलदार ने सबके सामने तो कर दी थी.
लेकिन अब एनटी मैडम म्रतक किसान के परिजनों को मुआवजा राशि न मिलने को कह रहीं है जिसपर म्रतक के पिता पुरषोतम पटेल ने प्रसासन पर राजनीति करने का आरोप लगाए है क्योंकि पहले तो घटना के दिन प्रसासन की तरफ से नायब तहसीलदार मंझोली श्रीमती पूजा ने मौके पर पहुँचकर 4 लाख रुपये मुआवजे के रूप में म्रतक के परिजनों को देने के लिए कह दिया लेकिन अब मैडम कह रहीं है की कोई मुआवजा नहीँ मिलेगा ऐसे में एकलौता बेटा खो चुके बृद्ध किसान पिता को बड़ा धक्का लगा है साथ ही म्रतक के परिजनों को न तो अभी तक सबंल योजना का ही कोई लाभ मिला है
ये है घटनाक्रम
सिहोरा थाना क्षेत्र में सुहजली हथलेवा गांव के एक कुएं से निकल रही जहरीली गैस से किसान उमेस पटेल की मौत हो गई थी साथ ही एक व्यक्ति बेहोश हो गया था बेहोश हुए व्यक्ति को स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था. मृतक की पहचान उमेश पटेल (32 वर्ष) के रूप में की गई थी घटना तब घटी जब दो व्यक्ति खेत के कुएं में पंप डॉलने का काम कर रहे थे रविवार सुबह उमेश पटेल अपने साथी अन्नू आदिवासी के साथ कन्नू पटेल के खेत में मौजूद कुएं में पंप डाल रहे थे.
लेकिन इसी दौरान अचानक दोनों को सांस लेने में तकलीफ होने लगी. अन्नू ने आवाज देकर खेत में काम कर रहे लोगों को बुलाया. फिर लोगों ने रस्सी की मदद से कुएं में फंसे अन्नू को बाहर निकाल लिया. लेकिन उमेश के बेहोश होने के कारण उसे बाहर निकालने में काफी समय लग गया. काफी मशक्कत के बाद उसे रस्सी में बांधकर बाहर निकाला गया और निजी वाहन से सिविल अस्पताल सिहोरा लाया गया. लेकिन डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया था बताया जा रहा है कि भू गर्भ वैज्ञानिक एवं जिला प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर पहुँचे थे