शरीर का सामान्य तापमान 98.6 नहीं बल्कि अब इतना है ?

शेयर करें:


जब शरीर का सामान्य तापमान की बात की जाय तो जुबान पर अक्सर एक जादुई नम्बर आ जाता है 98.6 डिग्री फारेनहाइट पर अब ये जान कर हैरानी होगी कि जब इस धरती पर सब कुछ बदल रहा है तो ये जादुई नम्बर 98.6 डिग्री फारेनहाइट भी बदल गया है। तो आईये जानते है क्या है वो नया शरीर का सामान्य तापमान।

ग्लोबल वार्मिंग की वजह से हालांकि वातावरण का तापमान हर रोज बढ़ता जा रहा है लेकिन इंसान के शरीर का तापमान कम होता जा रहा।

आपको बता दें कि 98.6 का आंकड़ा जर्मन फिजिशियन कार्ल वेंडरलीच की देन है। जिसे उन्होंने सन् 1851 में हजारों लोगों के एक मिलियन से ज्यादा तापमान का विश्लेषण कर स्वस्थ वयस्क के शरीर का तापमान 37 डिग्री सेल्सियस यानी 98.6 डिग्री फारेनहाइट को औसत तापमान माना था लेकिन तब से लेकर अब तक इसमें धीरे-धीरे कमी दर्ज की गई है।

अनुसंधानकर्ताओं ने अपने शोध के दौरान यह पाया कि सन् 2000 में जन्मे पुरषों के शरीर का तापमान सन् 1800 में जन्मे पुरषों की तुलना में औसतन 1.06 डिग्री फारेनहाइट कम है। इसी तरह महिलाओं का 0.58 डिग्री फारेनहाइट कम था। ऐसे में शरीर के तापमान में हर दशक में 0.03 डिग्री सेल्सियस यानी 0.05 डिग्री फारेनहाइट की कमी देखी जा रही है।

ऐसे में आज के समय में परंपरागत 98.6 फारेनहाइट की जगह 97.5 फारेनहाइट शरीर का नार्मल तापमान बन गया है।

स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में मैडीसिन को प्रोफैसर और इस अध्ययन की वरिष्ठ लेखिका डॉ जूली पैरसानेट के मुताबिक शारीरिक दृष्टि से देखें तो हम अतीत में जैसे थे उसकी तुलना में आज काफी अलग हैं। हमारा वातावरण बदल चुका है और हमारे घर के अंदर का तापमान बदल चुका है।

हम जिस तरह के भोजन का सेवन कर रहे हैं उसमें भी बदलाव आ चुका है। हमारे शरीर का तापमान पहले के मुकाबले में आज कम हो गया है। इसलिए अब शरीर का सामान्य तापमान 98.6 नहीं बल्कि 97.5 माना जाएगा।