युवाओं से मिल रही है न्यू इंडिया को ऊर्जा

शेयर करें:

प्रधानमंत्री ने कहा, उम्मीद की ताकत से परिपूर्ण नए भारत में नफरत की नहीं होगी कोई जगह, और सवा सौ करोड़ देशवासी खुद लिखेंगें अपनी नियति। राजधानी दिल्ली में न्यू इंडिया कांन्क्लेव में प्रधानमंत्री ने कहा, सवा सौ करोड़ देशवासियों की ताकत से और अधिक तेजी से बढेगी भारतीय अर्थव्यवस्था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली में आयोजित न्यू इंडिया कॉन्क्लेव में हिस्सा लिया और न्यू इंडिया और युवाओं की भूमिका पर विस्तार से अपनी बात रखी। प्रधानमंत्री ने युवाओं को न्यू इंडिया का मतलब बताया और कहा कि सरकार को ऐसे युवाओं की जरुरत है जो कंधे से कंधा मिलाकर चल सकें। यूथ फॉर डेवलपमेंट यानी वाई 4 डी फाउंडेशन द्वारा आयोजित न्यू इंडिया कॉन्क्लेव में हिस्सा लेने के लिए पहुंचे पीएम मोदी ने न्यू इंडिया और युवाओं की भूमिका पर विस्तार से बात रखी।

पीएम ने कहा कि न्यू इंडिया की सफलता युवाओं की हिस्सेदारी पर निर्भर है और इन्हीं के दम पर ही देश आगे बढ रहा है। प्रधानमंत्री ने युवाओं को न्यू इंडिया का मतलब बताया और कहा कि सरकार को ऐसे युवाओं की जरुरत है जो कंधे से कंधा मिलाकर चल सकें। पीएम मोदी ने इशारों ही इशारों में उन नेताओं पर तंज कसा जो अपनी विरासत के दम पर आगे बढ रहे हैं । पीएम ने कहा कि न्यू इंडिया में नाम की नहीं काम की जरुरत है ।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के तमाम कदमो से छोटे शहरों के लोगों के बड़े सपने भी अब पूरे हो रहे हैं। ये बदलाव ही न्यू इंडिया की पहचान बन रहा है। पीएम के मुताबिक ग्रामीण इलाकों और छोटे शहरों से अब ज्यादा प्रशासनिक अधिकारी बन रहे हैं जो गरीबों की समस्याओं के प्रति ज्यादा संवेदनशील है। पीएम मोदी के मुताबिक युवाओं की शक्ति पुरानी व्यवस्थाओं की कार्य प्रणाली, पुराने तौर-तरीकों, पुरानी सोच के बोझ से मुक्त है ।

उन्होंने कहा कि इस समय देश परिवर्तन के अहम दौर से गुजर रहा है। पिछले चार साल में देश 21वीं सदी में नई ऊंचाइयों को छूने के लिए आगे बढ़ रहा है । पीएम ने कहा कि कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ सरकार की कार्रवाई से माहौल बदला है । साथ ही जीएसटी के बाद लोग रिकॉर्ड संख्या में टैक्स देने के लिए आगे आ रहे हैं। ये बदले हुए वातावरण का प्रमाण है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के बाद भी शासन कुछ परिवारों के ही नियंत्रण में रहा लेकिन अब देश के राष्ट्रपति , उपराष्ट्रपति , पीएम और तमाम राज्यों के मुख्यमंत्री बहुत ही सामान्य परिवारों से निकलकर इन पदों पर पहुंचे हैं और ये बताता है कि किस तरह से देश का जन-मन बदला है। पीएम ने अपनी सरकार की तमाम योजनाओं का जिक्र किया और बताया कि कैसे उनके जरिए न्यू इंडिया बन रहा है ।

प्रधानमंत्री ने कॉनक्लेव में वाई 4 डी के प्रोजेक्ट से जुड़ी एक पुस्तक ‘ चाणक्य इन यू ‘ का विमोचन भी किया । साथ ही पीएम ने ग्रामीण भारत के स्वास्थ्य पर एक श्वेत पत्र भी जारी किया। पीएम मोदी ने कार्यक्रम में देश के सुदूर इलाकों में तमाम अहम क्षेत्रों में उल्लेखनीय काम करने वाले 10 युवाओं को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया। पुरस्कार पाने वालों में ऐसे युवा शामिल हैं जिन्होंने इनोवेशन , कृषि , युवा विकास जैसे तमाम क्षेत्रों में अहम भूमिका निभाते हुए बेहद शानदार काम किया है।

इससे पहले उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने न्यू इंडिया कॉन्क्लेव का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उप राष्ट्रपति ने कहा कि महिलाओं की देश के विकास में बड़ी भूमिका है इसलिए उन्हें सशक्त बनाने के लिए सही अवसर उपलब्ध कराने होंगे। उपराष्ट्रपति ने गांवों के विकास पर ज़ोर दिया।