राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य श्रीमती साहू ने की समीक्षा

शेयर करें:

भोपाल@ राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य श्रीमती सुषमा साहू ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बैठक लेकर महिला उत्पीड़न संबंधी मामलों में की गई कार्यवाही की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने बताया कि प्रदेश के पांच जिलों भोपाल, ग्वालियर, इन्दौर, जबलपुर व सागर के एक-एक थाने में पायलट प्रोजेक्ट के तहत महिलाओं के लिए विशेष सेल स्थापित किये गये हैं। इस पायलट प्रोजेक्ट की स्थापना राष्ट्रीय महिला आयोग एवं टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस के समन्वित प्रयासों से की गई है। भोपाल में यह स्पेशल सेल हबीबगंज थाने में स्थापित की गई है। समीक्षा बैठक से पूर्व श्रीमती साहू ने कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह के साथ चर्चा कर जिले में पीड़ित महिलाओं के कल्याण के लिए किए जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी ली। समीक्षा बैठक में पुलिस अधीक्षक राजेश चंदेल, अपर कलेक्टर जी.पी.माली भी मौजूद थे।

राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य श्रीमती साहू ने पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए कि स्पेशल क्राइम ब्रांच थाने सहित अन्य पुलिस थानों में भी महिलाओं के लिए पृथक से शौचालय बनवाने की व्यवस्था तत्काल कराई जाये। उन्होंने निर्देश दिए कि महिला थाने में आने वाली फरियादी महिलाओं की काउंसलिंग के लिए मनोवैज्ञानिक की व्यवस्था की जाये। श्रीमती साहू ने बैठक में कहा कि स्पेशल सेल में आने वाली पीड़ित महिलाओं को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के माध्यम से नि:शुल्क विधिक सहायता दिलाने की व्यवस्था की जाये तथा उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए उनकी रूचि अनुसार सिलाई, कढ़ाई जैसे व्यवसायों का प्रशिक्षण दिलाकर उन्हें रोजगार स्थापित करने में मदद दिलाई जाये। इस दौरान महिलाओं के लिए हबीबगंज थाने में गठित स्पेशल सेल के प्रतिनिधियों द्वारा प्रजेंटेशन के माध्यम से अब तक किए गए कार्यों की विस्तार से जानकारी दी गई। उन्होंने जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग से वन स्टॉप सेंटर के बारे में जानकारी ली तथा निर्देश दिए कि वे अपनी बैठकों में सीडीपीओ व आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को महिलाओं के लिए गठित स्पेशल सेल की जानकारी दें ताकि वे अपने क्षेत्र की महिलाओं को इनके बारे में जानकारी दें