राष्ट्रीय प्रेस दिवस के मौके पर अरुण जेटली ने कहा ‘आज के दौर में प्रेस सेंसरशिप संभव नहीं’

शेयर करें:

देश भर में 16 नवंबर को मनाया जा रहा है राष्ट्रीय प्रेस दिवस, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उतकृष्ट पत्रकारिकता के लिए दिए राष्ट्रीय पुरस्कार, कहा मीडिया के सामने खुद की विश्वसनीयता बनाए रखने की चुनौती , आज के दौर में प्रेस सेंसरशिप से किया इंकार , सूचना प्रसारण मंत्री ने भी दी बधाई

आज राष्ट्रीय प्रेस दिवस है। इस मौके पर आज नई दिल्ली में कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जहां वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उत्कृष्ट पत्रकारिता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किये। वित्त मंत्री ने कहा कि मीडिया के सामने आज अपनी विश्वसनीयता को बरकरार रखने की बड़ी चुनौती है।

राष्ट्रीय प्रेस दिवस के मौके पर नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि आज मीडिया के सामने सबसे बड़ी चुनौती अपनी खुद की विश्वसनीयता को बरकरार रखना है। उन्होंने कहा कि मीडिया को ये सुनिश्चित करना होगा कि उसकी किसी ख़बर से पाठक या दर्शक के मन में कोई संदेह ना पैदा हो।

अरुण जेटली ने इस मौके पर उत्कृष्ट पत्रकारिता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किये। उन्होंने कहा कि आज टेक्नोलॉजी का इतना अधिक प्रसार हो चुका है कि किसी भी सूचना को लोगों तक पहुंचने से रोक पाना या प्रेस सेंसरशिप संभव नहीं है।

राष्ट्रीय प्रेस दिवस के मौके पर सूचना एवं प्रसारण मंत्री कर्नल राज्यवर्धन राठौड़ ने भी पत्रकारों को बधाई दी। गौरतलब है कि देश में हर साल 16 नवंबर को राष्ट्रीय प्रेस दिवस मनाया जाता है। इसी दिन साल 1966 में भारतीय प्रेस परिषद ने काम करना शुरू किया था और ये दिन एक निष्पक्ष और जिम्मेदार प्रेस का प्रतीक है।