प्रयागराज : गंगा किनारे दफन किए गए शवों से चादर हटाने का मामले में जब प्रशासन की हुई किरकिरी तो बैठा दी जांच

शेयर करें:

प्रयागराज. उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में गंगा किनारे दफन किए गए शवों से चुनरी हटाने और आसपास लगे लकड़ियों को हटाने के मामले में सोशल मीडिया पर प्रशासन की किरकिरी हुई तो इस मामले में जांच बैठा दी है. डीएम के निर्देश पर दो अफसरों के नेतृत्व टीम गठित कर दी है. टीम मामले में जांच करेगी और यह पता लगाने की कोशिश करेगी कि ऐसा किसने और क्यों किया है ऐसा किया जाने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

 

गौरतलब है कि यूपी के प्रयागराज में कोरोना के दौर में हुई मौतों के बाद शवों को गंगा किनारे दफन कर दिया गया था. पिछले दिनों पूरे देश में इस मसले ने सुर्खियां बटोरी थीं. सोशल मीडिया पर इसके वीडियो और फोटोज बहुत तेजी के साथ वायरल हुए. उसके बाद इस मामले का एक और वीडियो तेजी से वायरल होने लगा, जिसमें कुछ लोग शवों पर से लगी चुनरी और आसपास लगी लकड़ियों को हटाते हुए देखे गए. सोशल मीडिया पर यह दावा किया गया कि प्रशासन ने जानबूझकर चुनरी और लकड़ियों को हटाया है. ताकि लोग दूर से गंभीर स्थिति का पता ना लगा सके.

https://twitter.com/alok_pandey/status/1397380857149616130

सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल होते ही प्रशासन की खूब किरकिरी हुई. वहीं इस संबंध में जिलाधिकारी भानु चंद्र गोस्वामी ने अपर जिलाधिकारी प्रशासन और अपर पुलिस अधीक्षक गंगा पार के नेतृत्व में 2 सदस्यों की टीम कर दिया है. डीएम ने प्रेस रिलीज जारी कर बताया कि शवों के ऊपर से चादर हटाए जाने का मामला गंभीर है. इसके लिए कई पहलुओं पर जांच होना जरूरी है. यह समिति इस प्रकरण में यह भी देखेगी कि ऐसा अति संवेदनशील कार्य में किन तत्वों द्वारा इस प्रकार का कार्य किया गया है और उनकी क्या मंशा थी. दोषी पाए जाने वाले व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई भी करेगी.