महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा बनाये गये 32 हजार से अधिक मास्क

शेयर करें:

जबलपुर। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन- अंर्तगत गठित महिला स्व सहायता समूह की सदस्यों द्वारा कोरोना वायरस से सुरक्षा के लिये जिले के ग्रामीण क्षेत्र में जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग, हाथ धुलाई का तरीके के साथ कपड़े के मास्क के उपयोग के बारे में समझाईश दी जा रही है । इसी कड़ी में स्व सहायता समूहों द्वारा कपड़े के मास्क की ग्राम स्तर पर ही सिलाई करके ग्राम पंचायतों एवं विभिन्न शासकीय विभागों को जिला रेडक्रास सोसायटी के माघ्यम से उपलब्ध कराये जा रहे हैं ।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी प्रियंक मिश्रा के अनुसार अभी तक महिला स्व सहायता समूहों द्वारा जिले के पांच विकासखण्डों में कुल 32 gtkj 182 मास्क का निर्माण किया गया है। जिसमें विकासखंड जबलपुर के महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा 12550, सिहोरा द्वारा 4397, पनागर द्वारा 6650, मझौली के समूहों द्वारा 3015 तथा पाटन के महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा 2570 मास्क का निर्माण किया गया है ।

स्व सहायता समूह की सदस्यों ने समाजिक दायित्वों का निर्वाहन करते हुए जरूरतमंद महिलाओं एवं अन्य ग्रामीणों को 2830 मास्क निःशुल्क वितरित भी किये हैं। वर्तमान में मास्क निर्माण कार्य में 26 समूहों की 78 सदस्य कार्यरत हैं ।
मास्क निर्माण का मुख्य कार्य जबलपुर विकासखण्ड के ग्राम पंचायत आमाहिनौता, पडुआ, देवरीपटपरा, मलारा, हिनोतियाबोई, डुंडी, बम्हनी, पिपरिया-मेडिकल, बरबटी व विकासखण्ड पनागर के कुशनेर व भरदा पंचायत में किया जा रहा है।