नकाबपोश बदमाशों ने कि दो लाख की लूट

शेयर करें:

प्रतापगढ़:  लालगंज कस्बे में नकाबपोश बदमाशों ने एसबीआइ की टाइनी शाखा में फायरिंग करके दो लाख तीन हजार रुपये लूट ले गए। फाय¨रग में एक कर्मी घायल हो गया। सूचना पर एसपी समेत पुलिस अफसर मौके पर पहुंच गए।लालगंज कोतवाली के जैनपुर निवासी प्रतीक पाल ने जलेसरगंज रोड पर टाइनी शाखा खोल रखी है। वहा कुलदीप गौतम कर्मचारी है। प्रतीक व कर्मी दोनों शाखा खोलकर रोज की तरह काम कर रहे थे। दिन में करीब 12.30 बजे एक बाइक पर सवार तीन बदमाश आ धमके। एक बाइक पर ही रहा, जबकि दो भीतर चले गए और एक फायर किया। गोली के छर्रे कुलदीप को लगे। साथ ही एक महिला ग्राहक की कनपटी पर बदमाशों ने तमंचा सटा दिया और चुप रहने की धमकी दी। एक बदमाश टाइनी शाखा के गेट पर नजर रखे था। इसके बाद काउंटर में रखे दो लाख रुपये व महिला ग्राहक का झोला जिसमें इकतीस सौ रुपये, बैंक पासबुक व मोबाइल था लूटकर जलेशरगंज की ओर भाग निकले। संचालक ने पुलिस को सूचना दी। जानकारी मिलने पर एसपी देव रंजन वर्मा मौके पर पहुंचे और प्रतीक, कुलदीप से घटना की जानकारी ली। एसपी ने बताया मामले की छानबीन की जा रही है। बदमाशों को पता था शाखा में हैं दो लाख :बैंक की टाइनी शाखा में दो लाख रुपये हैं, इस बात की सटीक जानकारी बदमाशों को थी। यह बात इसलिए सही लगती है, क्योंकि बुधवार को ही संचालक द्वारा रुपये बैंक से निकाला जाना स्वीकार किया गया है। इसी के अगले दिन लूट हो जाती है। दिनदहाड़े लूट की इस वारदात ने कई सवाल पैदा किए हैं। सबसे बड़ा सवाल यह कि शाखा दिन में 10 बजे खुली और वारदात ढाई घटे बाद हुई। इसके बाद भी लूटी गई व वहा लाकर रखी गई रकम में कोई अंतर नहीं मिला। यानि ढाई घटे में किसी ग्राहक को रुपये नहीं दिए गए। किसी ने कुछ जमा भी नहीं किया। अगर लेनदेन नहीं हुआ तो भी सवाल है और हुआ तो उसका विवरण क्यों नहीं दर्ज है, यह भी बड़ा सवाल है। एसपी के पूछने पर भी शाखा संचालक प्रतीक न तो जमा-निकासी के बारे में बता सके न ही कुल नकदी के बारे में ही जानकारी दे सके। ग्राहकों की संख्या तक वह नहीं बता पाए। कोतवाल अंगद राय ने देर शाम तक घटना की तहरीर मिलने से इन्कार किया।लूट की वारदात को लेकर लालगंज पुलिस को पर्दाफाश के लिए लगाया गया है। मानीटरिंग एएसपी पश्चिमी शिवाजी शुक्ल को दी गई है। सर्विलास विंग को भी जिम्मा दिया गया है।[ एसपी देवरंजन वर्मा, ] _ ब्यूरो रिपोर्ट प्रतापगढ़