मोदी ने जिस मंगल केवट को सम्मानित किया था उसे चौकी इंचार्ज ने पीटा

शेयर करें:

कालभैरव चौकी इंचार्ज ने मंगल केवट का बाल पकड़ कर कोतवाली थाने ले गए, और कहा- भगवा कपड़े पहनकर नेतागिरी करते हो

वाराणसी। मंगल केवट सांसद आदर्श ग्राम डोमरी गांव के निवासी हैं। वह ट्रॉली चालक हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता दूत मंगल केवट के साथ कालभैरव चौकी इंचार्ज ने मारपीट और बदसलूकी की है। प्रकरण को लेकर 27 जुलाई 2021 को मंगल केवट ने पुलिस कमिश्नर शिकायत की। पुलिस कमिश्नर ने मंगल को जांच कराकर प्रकरण में उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। मंगल ने कहा कि इसके बाद चौकी इंचार्ज उन्हें अपशब्द कहे। उनका बाल पकड़ कर कोतवाली थाने ले गए। मारपीट कर बैठा दिया और कहा कि केसरिया कपड़ा पहनकर नेतागिरी करते हो।

यह है पूरा मामला
मंगल केवट ने बताया कि वह 26 जुलाई 2021 की शाम वह घर जा रहे थे। रास्ते में देखा कि एक ट्रॉली चालक को एक दुकानदार का लड़का हथौड़ी से मार रहा है। इस पर वह ट्रॉली चालक को छुड़ाकर कालभैरव पुलिस चौकी पर ले गए।चौकी पर मौजूद इंचार्ज दिनेश प्रसाद यादव से उन्होंने ट्रॉली चालक की पीड़ा सुनाई।इस पर चौकी इंचार्ज ने कहा कि केसरिया रंग का कपड़ा पहन कर नेतागीरी करते हो। मंगल ने बताया कि उन्होंने चौकी इंचार्ज से कहा कि वह स्वच्छता के लिए काम करते हैं। उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सम्मानित कर चुके हैं। इसके बावजूद भी चौकी इंचार्ज ने उनकी एक न सुनी। कहीं से सूचना पाकर सामाजिक कार्यकर्ता अमन कबीर मैदागिन थाने पहुंचे। उन्होंने मंगल के बारे में बताया तो चौकी इंचार्ज ने छोड़ा।

हालांकि इसके बाद भी चौकी इंचार्ज ने उनके खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कर लिया। मंगल ने कहा कि कभी कोई गलत काम न करने वाले आदमी के साथ पुलिस जब ऐसा बर्ताव कर सकती है तो आम आदमी के साथ कैसा सलूक करती होगी। मंगल ने कहा कि पुलिस कमिश्नर के आश्वासन पर उन्हें विश्वास है। पूरा भरोसा है कि उनके साथ जिस पुलिसकर्मी ने गलत किया है उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

कौन हैं मंगल केवट
मंगल केवट प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान से प्रभावित हैं। वह राजघाट स्थित मालवीय पुल के साथ ही अपने गांव में गंगा किनारे अकेले सफाई करते हैं। इसके साथ ही दूसरों को भी वह स्वच्छता के लिए प्रेरित करते हैं।स्वच्छता के प्रति मंगल का लगाव और काम देख कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16 फरवरी 2020 को वाराणसी में उनसे मुलाकात की थी। प्रधानमंत्री ने स्वच्छता के प्रति मंगल के प्रयास की सराहना करते हुए उनके परिवार का कुशलक्षेम पूछा था।