पुलवामा हमले में शहीद मेजर की पत्‍नी ने पहनी आर्मी की वर्दी, लेफ्टिनेंट जनरल ने कंधों पर लगाए स्टार

शेयर करें:

मेजर विभूति शंकर धौंदियाल जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे और राष्ट्र के लिए उनके बलिदान को लेकर उन्हें शौर्य चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया गया था. पुलवामा हमले में शहीद मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल की पत्नी नितिका कौल ने शनिवार चेन्नई में ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी में अपना प्रशिक्षण पूरा करने के बाद आर्मी में अधिकारी बन गईं.

जम्मू/चेन्‍नई: पुलवामा में शहीद हुए अपने पति मेजर विभूति शंकर धौंदियाल के पदचिह्नों पर चलते हुए निकिता कौल शनिवार को सेना में शामिल हो गईं. सेना की उत्तरी कमान के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने तमिलनाडु के चेन्नई में अधिकारियों की प्रशिक्षण अकादमी में उनके कंधों पर स्टार लगाए.

रक्षा मंत्रालय ने इसका एक वीडियो शेयर किया है. वहीं, नितिका कौल ने चेन्नई में ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी में पासिंग आउट परेड में कहा, मैंने उसी यात्रा का अनुभव किया है, जिससे वह गुजरे हैं. मेरा मानना ​​​​है कि वह हमेशा मेरे जीवन का हिस्सा बनने जा रहे हैं. बता दें मेजर विभूति शंकर धौंदियाल जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों से लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे और राष्ट्र के लिए उनके बलिदान को लेकर उन्हें शौर्य चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया गया था.

रक्षा मंत्रालय, उधमपुर के जन संपर्क अधिकारी (पीआरओ) ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर इस समारोह का एक संक्षिप्त वीडियो साझा किया है. पीआरओ उधमपुर ने ट्वीट किया, ”पुलवामा में प्राण न्योछावर करने वाले मेजर विभूति शंकर धौंदियाल को मरणोपरांत शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया. उन्हें सर्वश्रेष्ठ श्रद्धांजलि देते हुए आज उनकी पत्नी निकिता कौल ने सेना की वर्दी पहन ली. यह उनके लिए गर्व का मौका होगा, क्योंकि सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट वाई के जोशी ने उनके कंधे पर स्टार लगाए. ”

मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल ने 2019 के पुलवामा हमले में अपनी जान गंवाई थी, उनकी पत्नी नितिका कौल ने चेन्नई में ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी में पासिंग आउट परेड में कहा, मैंने उसी यात्रा का अनुभव किया है, जिससे वह गुजरे हैं. मेरा मानना ​​​​है कि वह हमेशा मेरे जीवन का हिस्सा बनने जा रहे हैं.

इस ट्वीट के बाद कई लोगों ने सेना और शहीद सैन्यकर्मी की पत्नी की सराहना की है.

स्वप्निल पांडे ने लिखा ”आपको पता है यह इसलिए महत्वपूर्ण है कि सैनिक ना भी रहे लेकिन सेना उनके परिवारों को कभी अकेलापन का अहसास नहीं होने देती है. बहादुर अधिकारी से शादी करने वाली और अब खुद वर्दी पहनने वाली वीर नारी का साथ देना सेना के मूल्यों और इसके आचार संहिता को प्रदर्शित करता है.” कुछ और लोगों ने भी कौल की सराहना करते हुए लिखा, ”दिवंगत अधिकारी को यह सर्वश्रेष्ठ श्रद्धांजलि है.”