माघ मेले का पांचवां प्रमुख स्नान पर्व माघी पूर्णिमा कल, सुरक्षा का व्यापक प्रबंध

शेयर करें:

प्रयागराज. संगम की रेती पर लगे माघ मेले का पांचवां प्रमुख स्नान पर्व माघी पूर्णिमा शनिवार को है. स्नान पर्व को लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है. माघी पूर्णिमा के स्नान पर्व पर लाखों श्रद्धालु संगम तट पर बनाये गए 8 हजार वर्ग फीट लम्बे घाटों पर ब्रह्म मुहूर्त से ही आस्था की डुबकी लगायेंगे.

माघी पूर्णिमा के स्नान पर्व को लेकर माघ मेला प्रशासन ने सभी तैयारियां पूरी होने का दावा किया है. सभी विभाग के कर्मचारियों को आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए गए हैं. हाईकोर्ट के निर्देश पर कोविड गाइड के निर्देशों का भी सख्ती पालन करने के निर्देश दिए गए हैं. इसके लिए सोशल मीडिया से लेकर ड्रोन और सीसीटीवी कैमरों की भी मदद ली जा रही है.

इसके साथ ही भीड़ को नियन्त्रित करने के लिए पब्लिक एड्रेस सिस्टम से भी लगातार अनाउन्स की व्यवस्था की गई है. मेले में बनाये गए स्नान घाटों पर डीप वाटर बैरिकेडिंग के साथ ही जल पुलिस के साथ ही एनडीआरएफ और एसडीआरएफ को भी तैनात किया गया है.

एसपी मेला राजीव नारायण मिश्रा के मुताबिक माघी पूर्णिमा के स्नान पर्व को देखते हुए सभी तैयारियां चाक चौबंद कर ली गई है. पिछले चार स्नान पर्वों की तुलना में माघी पूर्णिमा पर्व पर भी परंपरागत भीड़ आने की उम्मीद जताई जा रही है. इसको लेकर स्नान घाटों का विस्तार किया गया है. संगम के अलग अलग क्षेत्रों में लगभग 17 स्नान घाट बनाए गए हैं.

सुरक्षा के दृष्टिगत मेला क्षेत्र में लगभग पांच हजार पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. स्नान घाटों पर जल पुलिस, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों को भी तैनात किया गया है. इसके अलावा मेला क्षेत्र में लगभग 120 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जिसकी मॉनिटरिंग कंट्रोल रुम के जरिए की जा रही है. ड्रोन कैमरे से भी मेला क्षेत्र की हर गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है. साथ ही मेले में बनाये गए 16 इन्ट्री प्वांट्स पर गाड़ियों का मेले में प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया है.