एक जून से मध्यप्रदेश अनलॉक, शिवराज सरकार की तरफ से गाइडलाइंस जारी

शेयर करें:

देश में कोरोना की दूसरी लहर जारी है. देश के ज्यादातर राज्यों में लगे लॉकडाउन जैसी पाबंदियों की वजह से कोरोना के मामलों में लगातार कमी आ रही है. रोजाना 4 लाख पार कर चुका आंकड़ा अब 2 लाख के आसपास है. दिल्ली, यूपी, महाराष्ट्र, हरियाणा, मध्यप्रदेश समेत कई राज्यों में कोरोना के मामलों में काफी कमी दर्ज की जा रही है. कोरोना के कम होते आंकड़ों को देखते हुए कई राज्यों में 1 जून से पाबंदियों में ढील का भी ऐलान कर दिया है. इसी कड़ी में मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान ने भी Lockdown यानी जनता कर्फ्यू में ढील देने का फैसला लिया है. यह ढील उन जिलों में ही दी जाएगी, जहां कोरोना का पॉजिटिविटी रेट 5 फीसदी से कम है.

मुख्यमंत्री ने बुधवार की शाम प्रदेश की जनता से संवाद किया और कोरोना को कैसे हराना है, इसपर महत्वपूर्ण टिप्स दिए. सीएम ने कहा कि कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है. वायरस अभी गया नहीं है. इसलिए अभई सावधानी बरतना बहुत जरूरी है. हम सबके प्रयास से ही कोरोना पर नियंत्रण पाया गया है.

 

यदि इस संक्रमण का विस्फोट हुआ तो वही हो जाएगी तीसरी लहर 

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अब तीसरी लहर की संभावना है. यदि हम असावधान रहे तो संक्रमण धीरे-धीरे बढ़ता रहेगा. यदि इस संक्रमण का विस्फोट हुआ तो वही तीसरी लहर हो जाएगी. इसलिए हमें दिन-प्रतिदिन की जरूरी गतिविधियां चलाते हुए तीसरी लहर को रोकने की कोशिश करना है. इसके लिए रोडमैप तैयार किया गया है.

मध्यप्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने गुरुवार ट्वीट कर यह जानकारी दी. कैबिनेट मंत्रियों की एक मीटिंग में सूबे में कारोबारी गतिविधियों को भी एक बार फिर से शुरू करने का फैसला लिया गया. नरोत्तम मिश्रा ने 1 जून से दी जाने वाली राहतों का ऐलान करते हुए कहा- निर्माण कार्य और अन्य कारोबारी गतिविधियों को 1 जून से शुरू किया जाएगा. वहीं, सरकारी दफ्तरों को भी 50 फीसदी उपस्थिति के साथ खोला जाएगा.

नरोत्तम मिश्रा ने ट्वीट कर बताया कि, प्रदेश में 1 जून से अनलॉक के लिए मंत्री समूह की बैठक में प्रस्तावित गाइड लाइन तय की गई है.

जिसमें शादी समारोह में दोनों पक्षों से 20-20 लोगों को अनुमति रहेगी. कुछ शर्तों के साथ आर्थिक गतिविधियां भी शुरू होगी. हालांकि इस पर अंतिम निर्णय 31 मई को होने वाली बैठक में लिया जाएगा. यही नहीं शादी में आने वाले सभी अतिथियों का रैपिड एंटीजन टेस्ट कराना जरूरी होगा.

इसके अलावा शिवराज सिंह चौहान सरकार ने मंदिरों, मस्जिदों समेत सभी धार्मिक स्थलों को भी खोलने का फैसला लिया गया है. हालांकि एक समय में परिसर में सिर्फ दो लोगों की ही मौजूदगी रहेगी. राज्य में फिलहाल सार्वजनिक गतिविधियों पर पाबंदी जारी रहेगी.

यह सावधानियां हमें बरतनी ही होगी.

  • प्रदेश में हर दिन 75 हजार टेस्ट किए जाएंगे. मास्क का उपयोग,
  • दुकान के सामने गोले बनाने और उसके अनुशासन का अनुसरण आवश्यक होगा. भीड़ इकट्ठी नहीं हो पाए इसलिए धारा 144 लगी रहेगी.
  • इसके साथ-साथ टेस्ट भी जारी रहेंगे. फीवर क्लीनिक चलते रहेंगे,
  • मोबाइल टेस्टिंग टीम भी कार्य करेगी.
  • संक्रमित को होम आइसोलेशन में,
  • मेडिकल किट देकर अथवा कोविड केयर सेंटर में उसके रहने की व्यवस्था की जाएगी. इससे संक्रमण नहीं फैलेगा.

सीएम ने कहा कि तीसरी लहर के तिए सावधान रहने की जरुरत है. यदि असवाधान रहे, बड़े पैमाने पर आयोजन होने लगे और भीड़ जुटने लगी तो संक्रमण को फैलने में देर नहीं लगेगी. इसलिए कोरोना कर्फ्यू धीरे-धीरे खुलेगा. गांव में ब्लाक और जिले की क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप तय करेंगे. हमने इसके लिए रोडमैप तैयार किया है. हालांकि प्रदेश में धारा-144 लागू रहेगी.