लावारिश मिले बच्चों को रोशनी शिशुग्रह में दिलाया संरक्षण – सीडब्लूसी

शेयर करें:

दतिया @ दतिया जिले में कोतवाली के पास एक दुकान पर दो बच्चे रोते विलखते दिखे जिन्हे किसी लोक सेवक द्वारा कन्ट्रोल रूम दतिया तक भेजा गया कन्ट्रोल रूम में विशेष किशोर पुलिस इकाई दतिया को अवगत कराया किशोर पुलिस इकाई के आरक्षक हरेन्द्र शर्मा व महिला आरक्षक द्वारा बच्चों के न्याय निर्णय हेतु बैंच ऑफ मजिस्टेªट (सी.डब्ल्यू.सी.) दतिया के समक्ष प्रस्तुत किया जिनमें एक बालक लगभग 04 वर्ष एवं बालिका लगभग 06 वर्ष जो सगे भाई बहिन है।

बाल कल्याण समिति के समक्ष बच्चों की जैविक मॉ कल्पना वर्मा पति का नाम प्रमोद वर्मा तालपुरा झांसी उपस्थित हुई बच्चों से पूछे जाने पर उन्होने बताया कि यह हमारी मम्मी कल्पना है कल्पना से बाल कल्याण समिति सदस्य कृष्णा कुशवाहा एवं चन्द्रप्रकाश तिवारी द्वारा बच्चे लावारिस हो जाने का कारण पूछा तो कल्पना ने बताया कि बच्चे दतिया में कैसे आ गये मुझे पता नही में बच्चों को ढ़ूड़ रही हूँ। अभी मैनें पुलिस में रिपोर्ट भी नही की है समिति सदस्य चन्द्रप्रकाश तिवारी ने जैविक मॉ होने संबंधी दस्तावेज मांगे तो कल्पना ने बताया मेरे पास कोई भी दस्तावेज आज नही है मैं कल तक प्रस्तुत कर दूंगी।

तिवारी ने बच्चों के सर्वोत्तम हित को ध्यान में रखते हुए किशोर न्याय (बालकों की देखरेख और सरंक्षण) अधिनियम 2015 एवं आदर्श नियम 2016 के प्रावधानुसार देखरेख और बचाव अधिनियम 18(5) के तहत् उचित संरक्षण प्रदाय कराने बावत् रोशनी शिशुग्रह में प्रवेश दिलाया जैविक माता पिता द्वारा आवश्यक दस्तावेज प्रस्तुत करने पर बच्चों को सुपुर्द कराने बावत् कार्यवाही की जायेगी। तब तक बच्चे रोशनी शिशुग्रह में रहेगे उक्त कार्यवाही में बाल कल्याण समिति सदस्य चन्द्रप्रकाश तिवारी, कृष्णा कुशवाहा, आईसीपीएस से दिनेश लोहिया परिवीक्षा अधिकारी, उत्तम शर्मा, राजीव कुमार चौबे आदि उपस्थित रहे।