प्रयागराज के श्मशान घाटों पर लगी लाशों की लंबी कतार, कोरोना से मरने वालों की तादाद 5 गुना हुई

शेयर करें:


प्रयागराज. कोरोना का संक्रमण दिन प्रतिदिन तेजी के साथ बढ़ता जा रहा है. जिसके बाद अब 5 गुना मौतें भी बढ़ गई हैं. श्मशान घाटों पर लाशों की लंबी कतार देखने के बाद महामारी की भयावहता का अंदाजा लगाया जा सकता है. रसूलाबाद और दारागंज घाट पर गुरुवार को लगभग 200 लोगों के अंतिम संस्कार होने का अनुमान है. सूलाबाद घाट पर रहने वाले विष्णु ने बताया कि 2 दिन में भीड़ बढ़ी है. इससे पहले 20 से 25 लाशें आती थी. घाट के दुकानदार कहते हैं कि अधिकतर लोगों की मौत किसी न किसी बीमारी से हुई है.

बता दें कि रसूलाबाद और दारागंज घाट पर दोपहर 1:00 बजे तक 125 लाशें पहुंच चुकी थी. घाटों पर सुबह से शाम तक एंबुलेंस के सायरन की आवाज सुनाई पड़ती है. दोनों घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए अतिरिक्त जगह बनाई गई है. फिर भी लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ता है. इसी तरह की स्थिति विद्युत शवदाह गृहों की भी है. रसूलाबाद घाट पर शाम तक लगभग 90 और दारागंज घाट पर 125 लाशों का अंतिम संस्कार हुआ. 20 लाशे शंकर घाट और दारागंज विधुत शवदाह पर जलाई गई. दो दर्जन लाशे प्रतापगढ़ से आई थी. रसूलाबाद घाट पर रहने वाले विष्णु ने बताया कि 2 दिन में भीड़ बढ़ी है. इससे पहले 20 से 25 लाशें आती थी. घाट के दुकानदार कहते हैं कि अधिकतर लोगों की मौत किसी न किसी बीमारी से हुई है.