विधि इंटर्नशिप छात्रों ने सीखे मध्यस्थता के गुर

शेयर करें:


जबलपुर। जिला एवं सत्र न्यायाधीश नवीन कुमार सक्सेना के मार्गदर्शन में आज शनिवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण में मध्यस्थता जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम में परिवार न्यायालय जबलपुर के प्रिंसिपल जज अमिताभ मिश्रा, विधि सक्सेना न्यायाधीश परिवार न्यायालय, एसके पांडे न्यायाधीश परिवार न्यायालय द्वारा विधि इंटर्नशिप करने वाले जबलपुर के विभिन्न विधि महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को मध्यस्थता के गुर सिखाए।

साथ ही कैसे मामले मध्यस्थता के अंतर्गत आयेंगे तथा उसकी प्रक्रिया क्या रहेगी प्रिलिटिगेशन एवं न्यायालय में लंबित मामलों में क्या अंतर है तथा वे कैसे मध्यस्थता हेतु रेफर होंगे इस संबंध में विधि इंटर्नशिप छात्रों को एमसीपीसी उच्चतम न्यायालय से प्रशिक्षित मध्यस्थ व पोटेंशियल ट्रेनर शाहिद मोहम्मद द्वारा जानकारी दी गई।

प्रिंसिपल जज परिवार न्यायालय अमिताभ मिश्रा द्वारा मध्यस्थता का प्राचीनकाल से लेकर वर्तमान तक का इतिहास प्रकट किया गया। वहीं न्यायाधीश विधि सक्सेना द्वारा बहुत ही अच्छे तरीके से विधि इंटर्नशिप छात्रों को विधि कैरियर गाइडलाइन देते हुए स्पष्ट किया गया कि औजार चाहे टूटे क्यों न हों प्रशिक्षित हाथों में आने पर उनसे कार्य लिया जाकर अच्छा परिणाम लिया जा सकता है इसके लिए यह बहाना करना उचित नहीं है कि हमारे पास उच्चतम स्तर के औजार नहीं थे इसलिए अच्छा परिणाम नहीं ले सके।

न्यायाधीश एसके पांडे द्वारा भी सफल मध्यस्थता के संबंध में अपने कुछ अनुभव साझा करते हुए सफल मध्यस्थता के टिप्स विधि छात्रों को दिए गए सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण शरद भामकर ने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर में इंटर्नशिप करने वाले छात्रों ने अपनी भावनाएं व्यक्त करते हुए प्रकट किया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर ने जिस तरह से पुलिस, जेल, किशोर न्याय बोर्ड, वृद्धाश्रम तथा न्यायाधीशों से जिस तरह से उनके कार्यक्षेत्र का प्रेक्टिकल अनुभव कराया है उससे उनका विधि के प्रति दृष्टिकोण व्यापक हुआ है तथा वे अब विधि क्षेत्र में ही समर्पित होकर अपना भविष्य निर्मित करेंगे एवं समाज को अपना पूरा योगदान देंगे।

जिला विधिक सहायता अधिकारी एम जीलानी द्वारा सफल जागरूकता कार्यक्रम के लिए परिवार न्यायालय जबलपुर के न्यायाधीशों का आभार प्रदर्शन किया गया तथा उन्हें स्मृति स्वरूप फूलों के पौधे भेंट किया।