लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप ने पिता की रिहाई के लिए लिखा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को आजादी पत्र

शेयर करें:

Bihar News: राजद सुप्रीमो लालू के लाल तेजप्रताप यादव ने अपने पिता की सजा माफी के लिए सरकार से गुहार लगायी है. उन्होंने इसके लिए महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से माफी मांगने के लिए पोस्टकार्ड में पत्र लिखा है, जिसमें इतनी अशुद्धियां हैं कि साधारण हिंदी जानने वाले भी इस पत्र को देखकर यही कहेंगे कि हिंदी तो शुद्ध से लिखना सीख लो.

दरअसल, तेज प्रताप यादव ने एक पोस्टकार्ड पर चंद लाइनें लिखकर राष्ट्रपति से अपने पिता लालू यादव की सजा माफ करने की मांग की है. बता दें कि उन्होंने इससे पहले सोशल मीडिया पर भी एक कैंपेन चलाया है जिसमें लालू को सजा माफी और उनकी रिहाई की मांग की गई है. एम्स में इलाजरत लालू प्रसाद की हालत चिंताजनक बतायी जा रही है. इसी को देखते हुए तेजप्रताप उनकी रिहाई की मांग कर रहे हैं.

तेज प्रताप ने अपने पत्र में ‘आदरणीय श्री लालू प्रसाद जी की जगह ‘आपरणीय श्री लालु प्रसाद जी’ लिख दिया है. सिर्फ लालू ही नहीं, एक वाक्य में कई गलतियां लिखी हैं. जैसे ‘मसीहा’ को ‘मसिहा’ लिख दिया है. इसी तरह ‘मूल्य’ को ‘मुल्य’, ‘गरीबों’ को ‘गरीवों’, और ‘वंचित’ को ‘बंचित’ लिखा है.

तेज प्रताप यादव ने अपने आजादी पत्र में इतनी ही गलतियां नहीं की है, उन्होंने आगे भी कई शब्द अशुद्ध लिखा है. इस पत्र पर जहां राजद नेता और कार्यकर्ता उनकी इस मुहिम की सराहना कर रहे हैं वहीं उनकी गलतियों के लिए विपक्षी दलों के नेता उनका मजाक उड़ा रहे हैं. मालूम हो कि तेज प्रताप यादव 11वीं तक पढ़े हैं और 12वीं में फेल होने के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी थी.

तेज प्रताप यादव ने जो पत्र लिखा है उसके मीडिया में वायरल होने के बाद उसपर एक नयी बहस शुरू हो गयी है. बता दें कि इससे पहले जब बिहार के राज्यपाल के तौर पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शपथ ग्रहण के दौरान अशुद्ध उच्चारण के लिए तेज प्रताप को टोका था और अब आजादी पत्र नाम से भेजे गये पार्स्ट कार्ड में तेज प्रताप ने अपने पिता का नाम भी अशुद्ध लिखा है.

लालू के बड़े बेटे तेजप्रताप

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार तेज प्रताप और उनकी बहन रोहिणी आचार्य ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर पिता लालू प्रसाद की रिहाई की मांग की है. दोनों ने समर्थकों से भी अपील की है कि सभी लालू प्रसाद यादव की रिहाई की मांग के लिए राष्ट्रपति को पत्र लिखें.