मुजफ्फरनगर : टिकैत बोले- जब तक कानून वापस नहीं होंगे हम भी वापस नहीं जाएंगे

शेयर करें:

यूपी के मुजफ्फरनगर में हुई किसानों की महापंचायत को संबोधित करते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला. राकेश टिकैत ने कहा कि हम संकल्प लेते हैं कि हम धरना स्थल को (दिल्ली सीमा पर) नहीं छोड़ेंगे, भले ही हमारा कब्रिस्तान ही क्यों ना वहाें बन जाए. जरूरत पड़ने पर हम अपनी जान भी दे देंगे, लेकिन जब तक हम विजयी नहीं होंगे तब तक धरना स्थल नहीं छोड़ेंगे.

टिकैत ने कहा कि देश में ‘सेल फॉर इंडिया’ का बोर्ड लगा है और इसे खरीदने वाले अंबानी-अडाणी हैं. उन्होंने कहा, FCI के गोदाम भी कंपनी को दे दिए गए. बंदरगाह भी बिक गए, ये पानी भी बेचेंगे. भारत बिकाऊ है, ये भारत सरकार की पॉलिसी है. टिकैत ने कहा जब तक हमारी मांगें नहीं मानी जातीं, तब तक हम हटेंगे नहीं. ढोल मजीरा बजाते हुए किसानों का जनसैलाब यूपी के मुजफ्फरनगर के जीआइसी मैदान पहुंचा है.

इसके साथ ही राकेश टिकैत ने कहा कि ये लोग बांटने का काम कर रहे हैं, हमें इन्हें रोकना है. पहले देश में अल्लाह-हू-अकबर और हर-हर महादेव के नारे साथ-साथ लगाए जाते थे और आगे भी लगेंगे. उन्होंने भीड़ से अल्लाह-हू-अकबर और हर-हर महादेव के नारे भी लगवाए. उन्होंने कहा, यूपी की जमीन को दंगा करवाने वालों को नहीं देंगे. टिकैत बोले की उन्हें केवल किसान ही नहीं देश के संविधान की भी चिंता है.

वहीं, किसान नेता दर्शन पाल सिंह ने महापंचायत को संबोधित करते हुए कहा कि जिस तरह से ईस्ट इंडिया कंपनी को हटाया, उसी तरह मोदी-शाह को हटाना है. उन्होंने बताया कि अगली मीटिंग 9 और 10 सितंबर को लखनऊ में गन्ने को लेकर होगी.

बड़ी संख्या में पहुंची महिला किसान, एक महिला किसान ने बताया,”हम यहां 3 क़ानूनों को वापस कराने के लिए इकट्ठा हुए हैं. PM से हमारा अनुराध है कि इस आंदोलन को 9 महीने हो गए हैं इससे और न बढ़ाएं तथा 3 क़ानूनों को वापस लें.”

हाई अलर्ट पर पुलिस-प्रशासन

एडीजी मेरठ जोन राजीव सभरवाल ने बताया है कि मुजफ्फरनगर महापंचायत के लिए 20 सीओ, एक डीआईजी, सात एसपी (शामली, सहारनपुर, बागपत भी शामिल) आठ कंपनी पीएसी और दो कंपनी आरएएफ को अतिरिक्त लगाया गया है.

रहेगी पूरी व्यवस्था

बयान में कहा गया है कि किसानों के वास्ते भोजन की व्यवस्था के लिए 500 लंगर सेवाएं शुरू की गई हैं, जिसमें सैकड़ों ट्रैक्टर-ट्रॉलियों पर चलने वाली मोबाइल लंगर प्रणाली भी शामिल है. महापंचायत में भाग लेने वाले किसानों के लिए 100 चिकित्सा शिविर भी लगाए गए हैं.

शराब की दुकानें रहेंगी बंद

जिलाधिकारी चंद्रभूषण सिंह ने कहा कि शनिवार शाम छह बजे से पांच सितंबर को महापंचायत खत्म होने तक जिले में शराब की सभी दुकानें बंद रहेंगी. उन्होंने कहा कि सुरक्षा की दृष्टि से यह कदम उठाया गया है.