आर्थिक सहायता और पत्रकार सुरक्षा कानून सम्बन्धी मांगों को लेकर पत्रकारों ने मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

शेयर करें:

जबलपुर /सिहोरा। कोविड 19 के दौरान जान को जोखिम में डालकर बगैर वेतन के भी सरकार और जनता के बीच खबरों के माध्यम से सबंध स्थापित करने वाले ग्रामीण अंचलों के पत्रकारों को कोरोना काल मे आर्थिक सहायता राशि दी जाए ,साथ ही पत्रकारों के लिए जल्द से जल्द सुरक्षा कानून बनाया जाए इन्हीं सब विषयों को लेकर आज एम पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के जिला ग्रामीण अध्यक्ष पवन यादव की अगुवाई में पत्रकारों ने मुख्यमंत्री के नाम सिहोरा विधायक नंदनी मरावी को ज्ञापन सौपा।

इन मांगों को लेकर सौपा ज्ञापन

साथ ही संगठन द्वारा सीएम शिवराज सिंह चौहान से मांग की गई है की ग्रामीण अंचलों के पत्रकारों को कुछ भी वेतन नहीं मिलता वे समाजसेवा के रूप में कार्य करते है, कोरोना काल मे पत्रकारों की बड़ी दयनीय स्तिथि है, और ये पत्रकार सरकार और जनता के बीच एक कड़ी का कार्य करते है,साथ ही इस महामारी के दौरान ग्रामीण क्षेत्रो के पत्रकारों ने सरकारी योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ व जानकारी जनता तक पहुँचाई है,एम पी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन की तरफ से ग्रामीण अंचलों के सभी पत्रकारों को राहत राशि के तौर पर 30 हजार रुपये की मांग की जाती है।

साथ ही समाचार पत्र वितरकों को भी आर्थिक सहायता प्रदान की जाए ,इसके अतिरिक्त पत्रकार सुरक्षा कानून भी अतिशीघ्र लागू किया जाए,तो वहीँ ज्ञापन के माध्यम से सरकार से यह भी मांग की गई है की अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों के अतिरिक्त और भी हमारे कई पत्रकार साथी है ,जो हमारे क्षेत्र के समाचार प्रकाशित करने के लिए वेबसाइट व यू ट्यूब के माध्यम से भी सरकार के जनहितकारी समाचारों से जनता को बताना अपना कर्तव्य समझते है ।

हमें भी बहुत सी जानकारी इन्ही के माध्यम से मिलती है, एम पी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन जबलपुर ग्रामीण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मांग करता है की जिस तरह आपने अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों को कोरोना वरियर्स माना है,उसी तरह अन्य पत्रकारों को भी उसी श्रेणी में लेने का फैसला लें ,ज्ञापन सौपते समय  एम पी वर्किंग जनर्लिस्ट यूनियन के जबलपुर जिला ग्रामीण अध्यक्ष पवन यादव , पत्रकार नरेश सिंह चौहान ,उमेश विश्वकर्मा,संदीप सोनी सहित अन्य पत्रकार उपस्तिथ थे,