पेंच नेशनल पार्क में लंदन के जाॅन डाउनर की टीम करेगी जंगल्स फिल्म का फिल्माकंन

शेयर करें:

सिवनी। विश्व विख्यात पेंच नेशनल पार्क में आगामी 27 फरवरी से 28 मार्च तक लंदन के जाॅन डाउनर की 04 सदस्यीय टीम जंगल्स फिल्म का फिल्माकंन करेंगे, जो 2023-24 में रिलीज होगी। उल्लेखनीय है कि लंदन के जाॅन डाउनर द्वारा वर्ष 2005 में टाइगर-जंगल में जासूस फिल्म पेंच नेशनल पार्क में बनाई गई जिसे देश-विदेश के लोगों बहुत पंसद किया था।

यह फिल्म भारत के पेंच नेशनल पार्क में तीन साल की अवधि के दौरान फिल्माई गई, इस वन्यजीव श्रृंखला में ट्रंक कैम का सरल प्रयोग, हाथियों की सूंड से पकड़े गए कैमरे, चार नवजात बाघ शावकों का पालन करने के लिए वयस्कता के सभी तरीके शामिल हैं। क्योंकि जंगल की बिल्लियाँ हाथियों के आस-पास होने की आदी थीं, हाथी किसी भी मानव फिल्म चालक दल की तुलना में बाघों के बहुत करीब आने में सक्षम थे।

जाॅन डाउनर की 04 सदस्यीय टीम में शामिल निशांत कपूर जो भोपाल निवासी है उन्होनें हिन्दुस्थान समाचार को बताया कि यह टीम मध्यप्रदेश के कान्हा , बांधवगढ, व विभिन्न अभ्यारणों , पार्को में भ्रमण करेगी। जहां से वह फिल्म जंगलस का फिल्माकंन करेगें। 04 सदस्यीय टीम में निशांत कपूर कैमरा मेन, अस्टिेंट प्रोडयूसर, तुषार भोजवानी निवासी भोपाल, कैमरामेन , दिकपाल सिंह निवासी उदयपुर व एक अन्य सदस्य शामिल होगा।

बताया गया कि टीम के सदस्य दिकपाल सिंह फील्ड में टाइगर के व्यवहार को टैंक करते हैं। जाॅन डाउनर द्वारा 15 वर्ष बाद पुनः पेंच नेशनल पार्क में टाइगर व बाइल्ड डाॅग व अन्य वन्यप्राणियों को लेकर फिल्म बनाने का प्रोजेक्ट तैयार किया गया है जो 03 वर्ष का है। जिसकी शुरूआत आगामी 27 फरवरी 2021 से की जायेगी।

अस्टिेंट प्रोडयूसर निशांत कपूर ने बताया कि जाॅन डाउनर द्वारा बनाई गई वर्ष 2005 में फिल्म टाइगर-जंगल में जासूस बनाई गई थी जो पेंच पार्क के रिर्सोटो मे पर्यटकों को दिखाई जाती है। यह फिल्म को देश-विदेश के लोगों ने बहुत पंसद किया है।

फिल्म टाइगर-जंगल में जासूस
इस फिल्म में बताया गया है कि जिस दिन से उनकी आँखें खुलती हैं और वे मांद से बाहर निकल जाते हैं, टाइगर – जंगल में जासूस चार छोटे बाघ शावकों के दिन-प्रतिदिन के जीवन को पकड़ते हैं क्योंकि वे भारत के बहुत दिल में अपनी समर्पित मां के साथ बड़े होते हैं। बाघ न केवल दुनिया का पसंदीदा जंगली जानवर है, बल्कि सबसे दुर्लभ में से एक भी है, और जैसा कि डेविड एटनबरो कहते हैं, “यह अब तक देखे गए बाघों का सबसे अंतरंग चित्र है।”

इस बाघ परिवार की दुनिया में प्रवेश करने के लिए, जॉन डाउनर और उनकी जादूगर टीम, कैमरामैन माइकल रिचर्ड्स और टेक्नो-बोफिन ज्यॉफ बेल, परम ऑल-टेरेन कैमरा वाहनों को तैनात करते हैं – हाथी – नवीनतम उच्च-परिभाषा ‘गुप्त हथियारों’ के साथ बाहर वन्यजीव फिल्म निर्माण – ट्रंक-कैम, टस्क-कैम और लॉग-कैम। भारत के पेंच राष्ट्रीय उद्यान में यहां के चार हाथियों को उनके महावतों द्वारा नया फिल्मांकन कौशल भी सिखाया गया है – एक स्थिर ट्रंक और एक नाजुक स्पर्श कैसे रखा जाए।