Skip to content

सड़क सुरक्षा के महत्व को उजागर करने के लिए हेलमेट्स से लिखा ‘जय हिंद’

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:


OMG! अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले ने रविवार को सड़क सुरक्षा के महत्व को उजागर करने के लिए बहुत सारे हेलमेट्स से लिखा ‘जय हिंद’ बनाकर गिनीज वल्र्ड रिकॉर्डस में प्रवेश किया, खासकर पहाड़ों में. अधिकारियों ने कहा कि ग्यालवा त्सांगयांग ग्यात्सो ऊंचाई वाले स्टेडियम में कुल 2,350 हेलमेट का इस्तेमाल ‘जय हिंद’ वाक्य बनाने के लिए किया गया था.

मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने हेलमेट से निर्माण शुरू करने के लिए सीटी बजाई और डेढ़ घंटे के भीतर हेलमेट वाक्य बनकर पूरा हो गया, खांडू के साथ तवांग और पश्चिम कामेंग जिलों के पांच विधायक फॉर्मेशन के अनुसार हेलमेट लगाने के लिए आगे बढ़े. अमेजिंग नमस्ते फाउंडेशन द्वारा राज्य सरकार के सहयोग से विश्व रिकॉर्ड बनाकर सड़क सुरक्षा पर जागरूकता पैदा करने के लिए ‘लक्ष्य’ नामक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था.

अमेजिंग नमस्ते फाउंडेशन के अध्यक्ष खांडू और अतुल कुलकर्णी ने संयुक्त रूप से गिनीज वल्र्ड रिकॉर्डस के प्रतिनिधि स्वप्निल डांगोरिकर से पुष्टि का प्रमाण पत्र प्राप्त किया. इस अवसर पर बोलते हुए, खांडू ने कहा कि पहाड़ियों में बेहतर सड़कों के साथ सड़क सुरक्षा उपायों पर जागरूकता और यातायात नियमों का पालन करना और भी महत्वपूर्ण हो गया है.

उन्होंने कहा, लोग, विशेष रूप से बाइक चलाने वाले युवा, अच्छी सड़कों पर तेजी से गाड़ी चलाते हैं. यह पाया गया है कि हमारी सड़कों पर दुर्घटनाओं का प्रमुख कारण तेज गति है. इसलिए, विश्व रिकॉर्ड का निर्माण ध्यान आकर्षित करेगा. लोगों को सड़क सुरक्षा और दोपहिया वाहनों की सवारी करते समय हेलमेट के अनिवार्य उपयोग के प्रति जागरूक करेगा. सरकार द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण से पता चलता है कि भारत में सड़क दुर्घटनाओं में सालाना लगभग 1.5 लाख बेशकीमती जान चली जाती है.

खांडू ने कहा, सबसे बड़ी संख्या में हेलमेट के साथ बने ‘जय हिंद’ के साथ गिनीज वल्र्ड रिकॉर्डस में इसे बनाना ना केवल अरुणाचल के लोगों के लिए एक संदेश है, बल्कि उन सभी के लिए जो हमारे पर्वतीय राज्य में आते हैं और प्राकृतिक सुंदरता और सड़कों की गुणवत्ता से प्रभावित हो जाते हैं. यातायात नियमों का पालन करें और हेलमेट का प्रयोग करें.

इस घटना को चिन्हित करने और सड़क सुरक्षा पर जागरूकता पैदा करने के लिए, एक बाइक रैली का आयोजन किया गया जो तवांग मठ से शुरू हुई और मराठा मैदान के माध्यम से स्टेडियम में समाप्त हुई. बाइक रैली में राज्य के विभिन्न हिस्सों से लगभग 200 राइडर और सीआरपीएफ के जवान शामिल थे, जिसमें खांडू भी शामिल हुए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर सरकार प्रतिबंध क्यों लगा रही है? दुनिया के सबसे गंदे इंसान’ अमो हाजी की 94 वर्ष की आयु में मृत्यु अनहोनी के डर से इस गांव में सदियों से नहीं मनाई गई दिवाली धनतेरस के दिन क्यों खरीदते हैं सोना-चांदी और बर्तन? पुराने डीजल या पेट्रोल वाहनों को रेट्रोफिटिंग करवाने से क्या होगा ?