जबलपुर कैंट बोर्ड घोटाले के विरुद्ध धरना प्रदर्शन

शेयर करें:

जबलपुर@ जबलपुर कैंट बोर्ड में पिछले कई महीनों से भ्रष्टाचार एवं तानाशाही के विरुद्ध शिकायत एवं प्रदर्शन किया गया परंतु अब तक किसी के भी द्वारा कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई. पिछले दिनों कैंट घोटाले को लेकर एक फ्लेक्स बैनर लगाया गया. जिससे कैंट बोर्ड बिना एजेंसी की शिकायत पर स्वयं अलग कर दिया गया. जिसका प्रमुख कारण कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ जी का नाम लिखा जाना.

वही दूसरी तरफ जबलपुर अखिल भारतीय छावनी उत्थान एवं संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष कन्हैया तिवारी द्वारा आरोप लगते हुए कहा- एक दिन बाद केंद्र सरकार के विरुद्ध कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा लगाया गया फ्लेक्स बैनर जिससे कि इस भेदभाव पूर्ण एकतरफा कार्रवाई से जनता में आक्रोश है केंट बोर्ड सीईओ की बर्खास्तगी एवं सीबीआई जांच की मांग एवं केंट बोर्ड उपाध्यक्ष एवं उनके 10 वर्ष के नियम विरुद्ध कार्यों की सीबीआई जांच की मांग करते हुए नर्मदा रोड पर नगर निगम की भूमि पर बने अवैध गुमटियों को हटाने की मांग हेतु धरना रखा गया है.

जबलपुर अखिल भारतीय छावनी उत्थान एवं संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष कन्हैया तिवारी एवं कार्यकर्ताओं द्वारा केंट बोर्ड सीईओ राहुल आनंद शर्मा और केंट बोर्ड उपाध्यक्ष के भ्रष्टाचार एवं तानाशाही के विरोध में शुक्रवार को कार्यालय शिवाजी मैदान के सामने प्रातः 11:00 बजे से 5:00 बजे तक धरना देने का आयोजन रखा गया.

जिसमे उपस्थिति की अपील कन्हैया तिवारी, राजेश रजक, पंकज गुप्ता, विकास बाबरिया, भाऊ गुडने, रोशन गोतेल, सुजीत खरे, बंटी शर्मा, पलाश मजूमदार, विनोद गुप्ता, रविंद्र बेन, विक्रम सिंह, रतन पिल्लै, अभिषेक रजक, सौरभ ठाकुर, विशाल रजक, सत्यम जाटव, आकाश कुशवाहा, दीपू शुक्ला, अभिषेक बाल्मीकि, आशू यादव, श्रीनिवास नायडू, राजेश सुनमोरिया, शिवापासी, जीतू कुशवाहा, सीमांत वर्मा, विकास तिवारी इत्यादि ने की है.