शुद्ध निर्वाचन प्रक्रिया हेतु शुद्ध मतदाता सूची बनाना जरूरी – निर्वाचन प्रेक्षक

शेयर करें:

दतिया | मध्य प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग के निर्वाचन प्रेक्षक एस.के. उपाध्याय ने कहा कि शुद्ध निर्वाचन प्रक्रिया संपन्न कराने के लिए शुद्ध मतदाता सूची भी बनाना आवश्यक है। इसमें राजनैतिक दलों का सहयोग भी आवश्यक है। निर्वाचन प्रेक्षक श्री उपाध्याय आज यहां जिला स्टेंडिंग कमेटी की बैठक में विभिन्न राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों को संबोधित कर रहे थे। बैठक में नगरपालिकाओं के निर्वाचन हेतु 1 जनवरी 2019 की संदर्भ तारीख के आधार पर फोटोयुक्त मतदाता सूची के वार्षिक पुरीक्षण के संबंध में राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से चर्चा हुई।

श्री उपाध्याय ने कहा कि मतदाता सूची के संबंध में हरेक मतदान केन्द्र एवं हरेक वार्ड में एक-एक व्यक्ति को तैनात किया गया है। यह व्यक्ति प्रातः 10 बजे से संध्या 5 बजे तक बैठेगा। मतदाताओं के नाम जोड़ने एवं हटाने संबंधी दावे-आपत्ति प्रतिदिन प्राप्त किए जाएंगे और इस बावत जानकारी चस्पा भी की जाएगी। श्री उपाध्याय ने राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से आग्रह किया कि वे अपने मैदानी कार्यकर्ताओं को आयोग के इन दिशा निर्देशों से अवगत कराएं। ये कार्यकर्ता इस कार्य हेतु तैनात अधिकारियों-कर्मचारियों से पूर्ण सहयोग करें।

उन्होंने कहा कि मतदाता का नाम हटाने या जोड़ने संबंधी जो भी दावे-आपत्ति का निर्धारित फार्म संबंधित कर्मचारियों को दिया जाए उसकी उससे पावती अवश्य प्राप्त की जाए। श्री उपाध्याय ने कहा कि मतदाता सूची में केाई त्रुटि ना हो, इसके लिए सभी आमजन को जानकारी दी जा रही है। उन्होंने अविलंब दावे-आपत्ति प्रस्तुत करने का राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों से आग्रह किया, ताकि समय पर संशोधन का कार्य हो सके। मतदाता सूची के अंतिम प्रकाशन के बाद दावे-आपत्ति प्रस्तुत किए जाएं।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री बी.एस. जामोद ने कहा कि मतदाता सूची शुद्ध होगी तो निर्वाचन की प्रक्रिया भी शुद्ध होगी। उन्होंने कहा कि यदि मतदाता सूची सही बनती है तो निर्वाचन भी सही एवं शुद्ध होता है। इसलिए यह आवश्यक है कि मतदाता सूची त्रुटि रहित बने।

कलेक्टर ने त्रुटि रहित मतदाता सूची बनाने में पूर्ण सहयोग देने का राजनैतिक दलों से आग्रह किया। उन्होंने कहा कि अगर मतदाता सूची में कोई त्रुटि नजर आती है, तो तत्काल दावे-आपत्ति प्रस्तुत किए जाए, जिससे समय रहते कार्यवाही की जा सके। उन्होंने शुद्ध मतदाता सूची तैयार कराने के कार्य में रूचि लेने का राजनैतिक दलों से आग्रह किया। उन्होंने कहा कि प्रत्येक वार्ड में राजनैतिक दलों के प्रतिनिधि का होना आवश्यक है।

इसलिए उसी वार्ड के निवासी को प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया जाए, ताकि उसको क्षेत्र की जानकारी हो। बैठक में डिप्टी कलेक्टर श्री अशोक सिंह चौहान ने मतदाता सूची तैयार किए जाने की प्रक्रिया एवं कार्यक्रम की जानकारी दी। इस मौके पर राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों ने भी सुझाव दिए।

बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री भगवान सिंह जाटव, अपर कलेक्टर श्री विवेक कुमार रघुवंशी, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री जे.पी. गुप्ता समेत राजनैतिक दलों के प्रतिनिधियों में सर्वश्री बृजेन्द्र सिंह बैस, प्रशांत ढ़ेगुला, लखनलाल भारती, कमलेश सिंह समेत अन्य प्रतिनिधि एवं पार्षद उपस्थित रहे।