बीएसएफ और बॉर्डर गार्ड ऑफ बांग्लादेश के बीच बातचीत

शेयर करें:

भारत और बांग्लादेश सीमाओँ की संयुक्त निगरानी के लिए रणनीति बनाने पर सहमत हुए है। नई दिल्ली में भारत के सीमा सुरक्षा बल और बांग्लादेश के बॉर्डर गार्ड ऑफ बांग्लादेश के बीच शुरू हुई बातचीत में यह रणनीति बनाने के साथ-साथ अन्य कई मसलों पर बातचीत शुरू हो गई है।

बॉर्डर गार्ड ऑफ बांग्लादेश का एक दल इस बातचीत के लिए दिल्ली में है और जो अगले पांच दिनों तक बीएसएफ के साथ सीमा प्रबंधन से जुड़े तमाम मसलों पर चर्चा करेगा। दिल्ली एयरपोर्ट से बाहर निकलते इस समूह में अंतर करना मुश्किल है कि कौन सीमा सुरक्षा बल और बॉर्डर गार्ड ऑफ बांग्लादेश का सदस्य है।

सोमवार को मेजर जनरल मोहम्मद शफीनुल इस्लाम के नेतृत्व में बॉर्डर गार्ड ऑफ बांग्लादेश का उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल बीएसएफ के दल से बातचीत के लिए दिल्ली पहुंचा। दोनों बलों के बीच पांच दिनों तक चलनेवाली इस बातचीत का मकसद है- सीमा पर सुरक्षा प्रबंधन को और मजबूत करना है।

साल 1975 में दोनों देशों के बीच ये बातचीत शुरु हुई थी, जो अब साल में दो बार होती है। 47वें दौर की इस बातचीत में बीएसएफ की ओर से जो मुद्दे उठाए जाएंगे, उसमें शामिल है – बॉर्डर गार्ड ऑफ बांग्लादेश भी बातचीत में कई अहम मुद्दे उठाना चाहता है, जिसमें शामिल है।

5 दिनों की बातचीत के बाद 7 सितंबर को दोनों बलों की तरफ से सहमति पत्र पर भी हस्ताक्षर किए जाएंगे। भारत और बांग्लादेश इस वक्त रिश्तों के सबसे बेहतरीन दौर से गुजर रहे हैं। ऐसे में बीएसएफ और बीजीबी के बीच हो रही इस बातचीत से संबंधों को नई गति मिलने की उम्मीद है।