जननी वाहन के परिवहन की व्यवस्था हेतु संस्था के अधिकारियों को निर्देश

शेयर करें:

पन्ना @ मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एल.के. तिवारी द्वारा बस में डिलेवरी को गंभीरतापूर्वक लेते हुए जिले में 108 वाहन एवं जननी वाहन परिवहन कि व्यवस्था की समीक्षा हेतु अधिकृत संस्था के अधिकारियों की तत्काल बैठक आयोजित कर जांच के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि लापरवाही पाये जाने पर किसी को भी बख्शा नही जाएगा। ग्राम कि आशा कार्यकर्ता विद्या गौड़ एवं आशा सहयोगनी आरती दीक्षित से संपर्क करने पर पता चला है कि नर्मदा कोंदर पत्नी हीरालाल कोंदर अपने ग्राम से आजीविका के लिये बाहर चले गए थे, जबकि इसके पूर्व इस महिला का प्रथम प्रसव यही संस्था में आपरेशन से हुआ था।

बच्चे का नाम शिवा टीकाकरण 21 मई 2015 को मिजेल्स का डोज लगाया गया था लेकिन इनका प्रथम प्रसव सिजेरियन होने के कारण इन्हें आपरेशन से डर लगने लगा था, ऐसा इनके ससुर के द्वारा बताया गया। जिसकी वजह से पुनः गर्भवती होने पर ये जब वापस लौटी तो सीधे अपने मायके अजयगढ़ विकासखण्ड के शोभन चली गयी और विगत तीन माह से वहाँ राह रही थी। इस दौरान शोभन कि आशा कार्यकर्ता फूलकली कोंदर के संपर्क में आई जब आशा कार्यकर्ता द्वारा गर्भवती महिला नर्मदा कोंदर से गर्भधारण के पश्चात् से अभी तक कि जांचों के बारे में पूंछा गया तो इनके द्वारा एक भी जाँच कराया जाना नहीं पाया गया। आशा कार्यकर्ता द्वारा इन्हें टी.टी. का डोज एवं एएनसी जाँच एनम मीरा सिंह द्वारा की गयी।

उन्होंने बताया कि आशा कार्यकर्ता फूलकली कोंदर शोभन से अनीता कोंदर पत्नी मोहन कोंदर को प्रसव हेतु 108 वाहन से अजयगढ़ अस्पताल लेकर आ गयी थी इस कारण से वह नर्मदा कोंदर को प्रसव पीड़ा के दौरान साथ में नहीं आ सकी, उसने 108 वाहन से लेकर जाने के लिये कहा। इस प्रकरण में यह समस्या निकलकर आई है कि शोभन ग्राम में जननी वाहन एवं 108 वहाँ नहीं जाते है जननी वाहन भैरहा ग्राम तक ही जाते है यदि आवश्यकता पड़ने पर वाहन के लिये फोन भी कर दिया जाता है तो वाहन तक पहुँचने के लिये दो से तीन किलोमीटर पैदल चलकर आना पड़ता है।

सभी आशा कार्यकर्ताओं से स्वयं बात कर जानकारी प्राप्त कि गयी। साथ ही एक जाँच टीम का गठन कर दिया गया है जो भी दोषी पाया जायेगा उस पर दंडात्मक कार्यवाही की जावेगी। साथ ही आगे इस प्रकार कि स्थितियों से निपटने के लिये 0755-2527000 टेलीफोन नंबर कि व्यवस्था कि गयी है यदि किसी कारणवश 108 एवं जननी को काल करने पर संपर्क नहीं हो पता है तो तत्काल इस नंबर को डायल कर वाहन व्यवस्था कि मांग कर सकते है।