Dec 23 फटाफट न्यूज़

शेयर करें:

28 साल बाद सिस्टर अभया को इंसाफ, पादरी और नन को मिली उम्रकैद

28 साल बाद ही सही क्रिसमस के ठीक पहले केरल की सिस्टर अभया को इंसाफ मिल गया है. स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने सिस्टर अभया की हत्या के मामले में दोषी फादर थॉमस कोट्टूर और नन सिस्टर सेफी को उम्रकैद की सजा सुनाई है. फादर कोट्टूर और सिस्टर सेफी को धारा 302 के तहत उम्रकैद के साथ पांच लाख के जुर्माने की सजा मिली है. इसके अलावा दोनों को सबूत मिटाने के लिए भी सात साल की सजा मिली है. बता दें कि मार्च, 1992 में कोट्टायम के एक कॉन्वेंट में 21 साल की सिस्टर अभया की तड़के सुबह हत्या कर दी गई थी. क्योंकि उन्होंने थॉमस कोट्टूर, एक अन्य पादरी होज़े फूथराकयाल और सेफी के बीच अनैतिक गतिविधियों को देख लिया था. हालांकि शुरू में लोकल पुलिस ने इसे खुदकुशी का मामला बताया था.

UP धर्मांतरण कानून पर बोले पूर्व जस्टिस- कई खामियां हैं टिक नहीं पाएगा

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मदन बी लोकुर ने कथित लव जिहाद को रोकने के लिए बने उत्तर प्रदेश के धर्मातरण विरोधी कानून की आलोचना की है. मंगलवार को एक कार्यक्रम में पूर्व जस्टिस ने कहा कि इसमें कानूनी एवं संवैधानिक नजरिए से कई खामियां हैं, जिनकी वजह से ये कानून अदालत में टिक नहीं पाएगा. लोकुर ने कहा जब विधानसभा का सत्र नहीं चल रहा था तो तत्काल धर्मातरण विरोधी अध्यादेश लाने की क्या जरूरत थी. उन्होंने कहा कि जजों को राजनीति में नहीं पड़ना चाहिए और उन्हें सिर्फ संविधान देखना चाहिए जो सबसे उपर है.

भारत: अगले हफ्ते मिल सकती है Oxford-AstraZeneca की वैक्सीन को मंजूरी

कोरोना वैक्सीन की राह देख रहे देश के लिए खुशखबरी है. रिपोर्ट्स के मुताबिक अगले हफ्ते भारत सरकार ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनका की वैक्सीन कोवीशिल्ड के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे सकती है. इस मंजूरी से पहले अधिकारियों ने स्थानीय निर्माता सीरम इंस्टीट्यूट से कुछ जानकारियां मांगी थी, जिस पर चर्चा चल रही है. अगर सरकार ऑक्सफोर्ड और एस्ट्राजेनका की वैक्सीन कोवीशिल्ड को मंजूरी देती है तो भारत इस टीके के इस्तेमाल की अनुमति देने वाला पहला देश होगा. इसके साथ ही कोवीशिल्ड भारत की पहली वैक्सीन होगी, क्योंकि अब तक किसी वैक्सीन के इस्तेमाल की मंजूरी नहीं मिली है.

UK से लौटे कई यात्री मिले कोरोना संक्रमित, नए स्ट्रेन की पुष्टि नहीं

ब्रिटेन में सामने आए कोरोना के नए रूप ने भारत की भी चिंता बढ़ा दी है. अहमदाबाद में ब्रिटेन से लौटे पांच यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. इन संक्रमितों में एक ब्रिटिश नागरिक भी शामिल है. इसके अलावा सोमवार रात लंदन से दिल्ली लौटीं दो फ्लाइट्स में भी सात लोग कोरोना संक्रमित मिले. जबकि चेन्नई और कोलकाता में भी ब्रिटेन से लौटने वाले यात्रियों में संक्रमित मरीज पाए गए हैं. हालांकि अभी ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि क्या ये लोग कोरोना के नए स्ट्रेन से संक्रमित हैं या नहीं. इन लोगों की आगे की जांच जारी है और इनको आइसोलेट कर दिया गया है. नए स्ट्रेन के सामने आने के बाद से ब्रिटेन की उड़ानों पर रोक लगा दी गई है और वहां से लौटे लोगों की विशेष निगरानी की जा रही है.

सरकार से बात करें या नहीं? ये फैसला करेगी किसानों की नई कमेटी

बुधवार को किसान आंदोलन का 28वां दिन है. इस बीच सरकार से बातचीत हो या नहीं के सवाल पर संयुक्त किसान मोर्चा ने पांच सदस्यों की एक कमेटी बनाई है. किसान नेताओं की यह कमेटी तय करेगी की सरकार से जो प्रस्ताव मिला है, उस पर बातचीत हो या नहीं और अगर हो तो उसकी रूपरेखा क्या हो. इस कमेटी में प्रेम सिंह भंगू, हरेंद्र सिंह लक्खोवाल और कुलदीप सिंह शामिल हैं. यह कमेटी सरकार के प्रपोजल को लेकर ड्राफ्ट तैयार करेगी और उसके बाद उस ड्राफ्ट को लेकर 40 किसान नेताओं की मीटिंग होगी. संयुक्त किसान मोर्चा की मीटिंग आज दोपहर 2:00 बजे होगी. उधर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा है कि हम बातचीत के लिए तैयार हैं पर हम कानून में संशोधन नहीं वापसी चाहते हैं.

COVID-19: देश में फिर 20 हज़ार के पार कोरोना मरीज, केरल का हाल बुरा
भारत में कोरोना के केसों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है और फिर से एक दिन में कोरोना केसों का आंकड़ा 20 हजार के पार पहंच गया है…बुधवार को आए स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 24 घंटों में 23 हजार 950 नए संक्रमित मिले हैं, जिसके बाद संक्रमित होने वाले कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 1 करोड़ 99 हजार के पार हो गई, वहीं इस दौरान 333 मरीजों की जान भी चली गई, और मौतों का आंकड़ा बढ़कर 1 लाख 46 हजार 444 हो गया. हालांकि देश में कोरोना मरीजों के ठीक होने की रफ्तार तेजी से बढ़ रही है. वहीं केरल का हाल फिर से बुरा होता दिख रहा है, यहां हर रोज 5 से 6 हजार नए मरीज मिल रहे हैं, केरल में 38 हजार से ज्यादा एक्टिव केस है, जो देश के किसी राज्य में सबसे ज्यादा है.

आंदोलन के बीच मनेगा ‘किसान दिवस’, एक टाइम खाना नहीं खायेंगे किसान

भारत के पांचवें प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह की जयंती के मौके पर हर साल 23 दिसबंर को राष्ट्रीय किसान दिवस मनाया जाता है. भारत के किसानों की स्थिति को सुधारने के लिए चरण सिंह ने काफी काम किए थे. चौधरी चरण सिंह देश के ऐसे किसान नेता थे, जिन्होंने देश की संसद में किसानों के लिए आवाज बुलंद की थी. इस बीच भारतीय किसान यूनियन ने ऐलान किया है कि किसान दिवस के दिन हम एक टाइम का खाना नहीं खाएंगे. किसान संगठनों ने लोगों से अनुरोध किया है कि वह बुधवार दोपहर का भोजन न पकाएं.

‘हेट स्पीच’ में फंसे अर्नब, Republic TV पर लगा 18 लाख रु का जुर्माना

Republic TV के अर्नब गोस्वामी को बड़ा झटका लगा है. द ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग रेग्युलेटरी ने उनके चैनल पर 20 हजार यूरो यानी करीब 18 लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. ये जुर्माना हेट स्पीच मामले में उल्लंघन को लेकर लगाया गया है. ऑफिस ऑफ कम्युनिकेशन्स के मुताबिक ‘पूछता है भारत’ शो में बहुत सारी हेट स्पीच हैं और ये बेहद भड़काऊ भी हैं. उन्होंने कहा कि किसी धर्म या मान्यता के खिलाफ भेदभावपूर्ण और गलत भाषा का प्रयोग नहीं होना चाहिए. आदेश में कहा गया है कि पाकिस्तानी लोगों के खिलाफ कार्यक्रम में आपत्तिजनक टिप्पणी की गई है.

धरने पर बैठा BJP का ‘खुशहाल किसान’, लीगल नोटिस भेजने की तैयारी

पंजाब के किसान हरप्रीत सिंह किसान कानूनों पर चल रहे विरोध-प्रदर्शन में सिंघु बॉर्डर पर शामिल हैं. लेकिन भाजपा ने सोशल मीडिया पर कृषि कानून में एमएसपी की हकीकत बयां करने के लिए हरप्रीत की ही फोटो लगाई है. यानी बीजेपी ने जिस किसान की फोटो अपने विज्ञापन पर लगाई है, वो पिछले 2 हफ्तों से सिंघु बॉर्डर पर नए कृषि कानून के खिलाफ बैठे हैं. नौजवान किसान का कहना है कि भाजपा ने प्रचार सामग्री में उससे बिना पूछे फोटो का उपयोग किया है. हरप्रीत पंजाब के होशियारपुर के रहने वाले हैं. उनका कहना है कि ये तस्वीर उन्होंने 6-7 साल पहले सोशल मीडिया पर डाली थी. अब हरप्रीत ने बीजेपी को लीगल नोटिस भेजने का फैसला किया है.

सार्वजनिक जगहों पर नहीं मना सकेंगे नए साल और क्रिसमस का जश्न, कई राज्यों में बैन

कोरोना के चलते कई राज्यों में नए साल और क्रिसमस के मौके पर होने वाले सभी कार्यक्रमों को रद्द कर दिया गया है. महाराष्ट्र में 22 दिसंबर से 5 जनवरी के बीच ज्यादा प्रतिबंधों और रात के कर्फ्यू के चलते दुकानें देर रात तक खुली नहीं रह सकेंगीं. तमिलनाडु सरकार ने 31 दिसंबर की रात और एक जनवरी को समुद्र तटों, होटलों, क्लब और रिसॉर्ट्स में होने वाली पार्टियों पर बैन लगा दिया है. अहमदाबाद में रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है. 31 दिसंबर को किसी भी प्रकार की पार्टी नहीं की जाएंगीं. वहीं उत्तराखंड सरकार और बेंगलुरू ने बार, होटल, और दूसरी सार्वजनिक जगहों पर क्रिसमस और नए साल के सार्वजनिक समारोह पर रोक लगा दी है.

विवाद में सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट, 69 पूर्व नौकरशाहों का पीएम को पत्र

देश के 69 पूर्व नौकरशाहों ने सेंट्रल विस्टा प्रोजक्ट को लेकर पीएम मोदी के नाम पत्र लिखा है. प्रोजेक्ट पर चिंता जताते हुए कहा गया है कि इसपर शुरुआत से ही सरकार ने गैर जिम्मेदाराना रवैया दिखाया है. कोरोना काल में जन स्वास्थ्य से जुड़ी आवश्यक सेवाओं को दरकिनार कर अनावश्यक प्रोजेक्ट्स को प्राथमिकता दिए जाने पर भी सवाल उठाए हैं. ये ही नहीं इसके आधारशिला कार्यक्रम पर भी कहा गया कि राष्ट्रपति को ये काम करना चाहिए था.पत्र लिखने वाले पूर्व नौकरशाहों में जावेद उस्मानी, अरुणा रॉय, हर्ष मंदर, राहुल खुल्लर, ए एस दुलत और अमिताभ माथुर जैसे नाम शामिल हैं.

ब्रिटेन के PM बोरिस जॉनसन के 26 जनवरी समारोह में आने पर संशय

कोरोना वायरस के नए म्यूटेटेड वर्जन से पैदा हुआ संकट बढ़ता ही जा रहा है. अब ऐसी आशंका है कि गणतंत्र दिवस समारोह में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन भारत न आ सकें. ब्रिटिश मेडिकल एसोसिएशन के प्रमुख डॉक्टर चांद नागपाल ने NDTV से बातचीत में इसकी आशंका जताई है. उन्होंने कहा कि हम अभी से उस बात के लिए फैसला नहीं कर सकते जो कि 5 हफ्ते बाद होनी है, वायरस के हालात में परिवर्तन दिन-प्रतिदिन के आधार पर होता है. . लेकिन एक विचार यह है कि अगर इस स्तर का संक्रमण और उसका प्रसार जारी रहता है तो उनकी भारत यात्रा शायद संभव न हो सके. वैसे भी ब्रिटेन से आने वाली उड़ानों पर भारत सहित करीब 30 देशों ने रोक लगा रखी है. हालांकि ब्रिटेन सरकार की ओर से आधिकारिक तौर पर इस मुद्दे पर अभी कुछ कहा नहीं गया है.

किसानों ने बनाया पैरलल मीडिया, कुछ ही दिनों में लाखों फॉलोअर्स

किसान आंदोलन को अब एक महीना होने जा रहा है.वहीं आंदोलन के दौरान दी किसानों ने मेन स्ट्रीम मीडिया के समानांतर अपना ही मीडिया बना रहे है. कुछ दिनों पहले शुरू हुए किसान एकता मोर्चे के फेसबुक फॉलोअर्स की संख्या 1.30 लाख के पार पहुंच चुकी है.वहीं ट्विटर फॉलोअर्स 94.6 हजार के पार पहुंच चुके हैं तो यू ट्यूब चैनल के सब्सक्राइबर्स की तादाद 6.75 लाख हो चुकी है. इन सभी मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर भाषण,फैक्ट चेक और काउंटर आर्ग्यूमेंट डाले जा रहे हैं. आपको बता दें कि मीडिया के एक हिस्से ने किसानों के आंदोलन को एक ऐसा नरेटिव देने की कोशिश की जो उन्हें नामंजूर था, इसलिए उन्हें खुद का आईटीसेल बनाना पड़ गया.

भारत में की गई जीनोम स्टडी में स्ट्रेन के कोई सबूत नहीं: ICMR

कोरोना वायरस के स्ट्रेन को लेकर एक डर का माहौल पैदा हो गया है. ऐसे में ICMR के नेशनल एड्स रिसर्च इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर और वैज्ञानिक समीरन पांडा ने एक राहत भरी बात कही है. उन्होंने कहा कि देश के कई हिस्सों से सैम्पल इक्टठा कर जांच में ब्रिटेन में पाए जाने वाले म्यूटेंट स्ट्रेन जैसा कुछ नहीं मिला है. साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि पिछले 6-7 महीनों की जीनोम स्टडी इस नतीजे पर पहुंची है कि भारत के विभिन्न हिस्सों से लिए गए 2000 सैंपल्स में इस तरह का म्यूटेशन अब तक नहीं दिखा है.

सरकार से बात करने या ना करने पर आज फैसला ले सकते हैं किसान

दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों ने कहा है कि वो केंद्र सरकार की भेजी बातचीत की चिट्ठी पर बुधवार को कोई फैसला लेंगे. किसान नेता कुलवंत सिंह संधू ने कहा कि इस मसले पर किसान संगठनों के बीच चर्चा जारी है और सरकार से बात करने पर बुधवार को कोई फैसला संभव है. हालांकि उन्होंने आंदोलन को जारी रखने और इसका विस्तार करने की भी बात कही. साथ ही उन्होंने कहा कि अलग अलग देशों में भी पंजाबी समुदाय की तरफ से 25 और 26 दिसंबर को भारतीय दूतावासों पर प्रदर्शन कर अपनी आवाज को उठाया जाएगा.

किसानों का एक दल कृषि मंत्री से मिला, कानूनों का किया समर्थन

इधर दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन पिछले 27 दिनों से जारी है, उधर सरकार की ओर से भी किसानों को समझाने की कोशिशें जारी हैं. इस बीच किसान संघर्ष समिति (गौतम बुद्ध नगर) और इंडियन किसान यूनियन के नेताओं ने दिल्ली में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात की. इन लोगों ने कृषि कानूनों के समर्थन में एक ज्ञापन सौंपा इन्होंने कृषि कानूनों के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को धन्यवाद भी दिया. इन्होंने कृषि मंत्री से कहा कि इन कानूनों से किसान की हालत में सुधार होगा.

प्रदर्शनकारी किसानों की दो टूक- कानूनों को रद्द करें, तब्दीली नहीं

मंगलवार को प्रदर्शन कर रहे किसानों ने एक बार फिर ये कहते हुए अपना रुख स्पष्ट कर दिया कि तीनों कानूनों को रद्द किए जाने से कम उनको कुछ मंजूर नहीं. पत्रकारों से बात करते हुए किसान नेता सरवन सिंह पंधेर बोले कि अपनी बातचीत वाली चिट्ठी के जरिए सरकार ऐसा जाताना चाहती है कि चर्चा किसानों की वजह से रुकी हुई है लेकिन हम स्पष्ट कर देना चाहते हैं कि हम यहां कानूनों में तबदीली करवाने के लिए नहीं बल्कि इनको रद्द करवाने के लिए बैठे हैं और इस से कम हमें कुछ मंजूर नहीं.

जनवरी-फरवरी में बोर्ड परीक्षाएं नहीं, बाद में जारी होगा शेड्यूल: निशंक

केन्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ने कहा है कि साल 2021 के जनवरी और फरवरी महीने के दौरान शिक्षा बोर्ड के कोई एग्जाम नहीं लिए जाएंगे. निशंक के मुताबिक परीक्षाएं कब होंगी इस पर बाद में फैसला लिया जाएगा. दरअसल मीडिया में ऐसी ख़बरें आ रही थीं कि सरकार 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षा केवल पेन और पेपर मोड में आयोजित करवा सकती है लेकिन अब शिक्षा मंत्री के इस फैसले ने ऐसी तमाम अटकलों पर विराम लगा दिया है. देश में 15 फरवरी से मार्च मध्य तक परीक्षाएं होती थीं लेकिन कोरोना महामारी के कारण इस बार इनको लेकर अंतिम फैसला नहीं हो पाया है.

कोरोना के नए स्ट्रेन से ना डरें, देश में इसका कोई केस नहीं: सरकार

ब्रिटेन में पाए गए नए कोरोना स्ट्रेन को लेकर भारत सरकार ने कहा है कि इसे लेकर चिंता करने या घबराने कि जरुरत नहीं है और बीमारी को लेकर सरकारी तैयारियां मुकम्मल हैं. नीति आयोग के सदस्य- स्वास्थ्य वीके पॉल ने मंगलवार को जानकारी देते हुए कहा कि भारत में अब तक इस नए स्ट्रेन से संक्रमित कोई मरीज नहीं मिला है लेकिन हमें एहतियात बरतते रहना जरूरी है. पॉल ने भी ये भी स्पष्ट किया कि अभी इस नए स्ट्रेम से बीमारी की तीव्रता या मृत्यु दर बहुत अधिक प्रभावित होती नजर नहीं आई है.

ब्रिटेन से आनेवाले यात्रियों के लिए सरकार ने जारी की नई SOP

ब्रिटेन में कोरोना वायरस का नया स्ट्रेन मिलने की वजह से भारत सरकार भी सतर्क है, और वहां से आने वाले यात्रियों के लिए मंगलवार को नई SOP जारी की गई है. नए म्यूटेंट स्ट्रेन को ज्यादा खतरनाक और संक्रामक माना जा रहा है, साथ ही ये युवाओं को अधिक प्रभावित कर रहा है. जानते हैं क्या है नई SOP में…
ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों के लिए नए नियम
संक्रमण की पुष्टि होने पर अलग से जांच
म्यूटेंट स्ट्रेन के लिए अलग जांच करवानी होगी
म्यूटेंट स्ट्रेन पॉजिटिव होने पर अलग आइसोलेशन वॉर्ड में रखा जाएगा
जांच और अलग आइसोलेशन में रखने का जिम्मा राज्य सरकार का होगा
यात्रियों को 14 दिनों की यात्रा का डिटेल देना होगा
यात्री के पॉजिटिव होने पर बाकी यात्रियों को भी आइसोलेशन में रखा जाएगा
ब्यूरो ऑफ इमिग्रेशन को 25 नवंबर से अब तक ब्रिटेन से आए लोगों की जानकारी देनी होगी

UK से लौटे 8 लोग मिले कोरोना संक्रमित, नए स्ट्रेन की अभी पुष्टि नहीं

ब्रिटेन में सामने आए कोरोना के नए रूप ने भारत की भी चिंता बढ़ा दी है. इस बीच लंदन से दिल्ली लौटीं दो फ्लाइट्स में सात लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं. हालांकि अभी ये स्पष्ट नहीं हो पाया है कि क्या ये लोग कोरोना के नए स्ट्रेन से संक्रमित हैं. इन लोगों की आगे की जांच जारी है और इनको आइसोलेट कर दिया गया है. वहीं चेन्नई में भी UK से लौटे एक व्यक्ति के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई है और उनके सैंपल को पुणे की लैब में भेजा गया है. नए स्ट्रेन के सामने आने के बाद से ब्रिटेन की उड़ानों पर रोक लगा गई है और वहां से लौटे लोगों की विशेष निगरानी की जा रही है.

ख़ुशख़बरी! 28 दिसंबर को दिल्ली पहुंच जाएगी कोरोना वैक्सीन की पहली खेप

कोरोना वैक्सीन का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे भारतीयों के लिए खुश की खबर है. मंगलवार को दिल्ली एयरपोर्ट के सीईओ ने जानकारी दी है कि 28 दिसंबर को कोरोना वैक्सीन की पहली खेप दिल्ली पहुंच रही है. उन्होंने बताया कि हमारी क्षमता एक दिन में 80 लाख वियाल हैंडल करने की है. वहीं राजीव गांधी अस्पताल में वैक्सीन कार्यक्रम की इंचार्ज डॉक्टर छवि गुप्ता ने बताया कि, वैक्सीन को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं, उन्होंने बताया कि जिन बड़े आकार के डीप फ्रीजर में वैक्सीन स्टोर होगी उन्हें भी ट्रकों में लादकर अस्पताल पहुंचाया जा चुका हैं.

आंदोलन के बीच प्रधानमंत्री जारी करेंगे किसान सम्मान निधि की 7वीं किस्त

एक तरफ जहां कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का आंदोलन जारी है. वहीं दूसरी तरफ कृषि मंत्रालय ने कहा है कि 25 दिसंबर को प्रधानमंत्री ‘किसान सम्मान निधि’ की सातवीं किस्त जारी करेंगे. पीएम मोदी 18 हजार करोड़ रुपये जारी करेंगें जिससे देश के 8 करोड़ किसानों को फायदा होगा. प्रधानमंत्री इस मौके पर किसानों से बात भी करेंगे. पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत केंद्र सरकार किसानों को हर चार महीने पर 2 हजार रुपये देती है. इस योजना की घोषणा फरवरी 2019 के अंतरिम बजट में की गई थी.