आतंकवाद के खिलाफ भारत का कड़ा रुख

शेयर करें:

आतंकवाद के खिलाफ भारत के रुख को ब्रिक्स और आईबीएसए समूह के देशों का समर्थन मिला है। संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दोनों समूहों की बैठकों को संबोधित किया। ब्रिक्स ने अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के खिलाफ समग्र नीति को जल्द अपनाने के का संकल्प लिया।

भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान पर आतंकवाद को लेकर कड़ा रूख अख्तियार किया है। आतंकवाद के खिलाफ भारत के रुख को ब्रिक्स और आईबीएसए समूह के देशों का भी समर्थन मिला है। संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के इतर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने दोनों समूहों की बैठकों को संबोधित किया। ब्रिक्स देशों ने अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद के खिलाफ समग्र नीति को जल्द अपनाने के लिए संकल्प लिया।

ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्रियों ने संयुक्त राष्ट्र आम सभा के इतर बैठक कर सीसीआईटी को शीघ्र स्वीकार करने पर जोर दिया। संयुक्त बयान के मुख्य बिंदुओँ में आतंकवाद के सभी रूपों और इसके प्रसार की निंदा और आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में व्यापक दृष्टिकोण शामिल है।

भारत, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका ने राजनीतिक और आर्थिक फैसले लेने वाली संस्थाओँ में त्वरित प्रभाव से जरूरी सुधार करने की मांग की है. न्यूयार्क में हुई बैठक में इन देशों संयुक्त राष्ट्र में सुधार लाने पर जोर दिया ताकि इसे ज्यादा प्रतिनिधिक, विस्तृत, और प्रभावी बनाया जा सके. बैठक के दौरान तीनों देशों के विदेश मंत्रियों ने वैश्विक राजनीतिक हालात, वैश्विक आर्थिक और वित्तीय स्थिति, वैश्विक प्रशासन पर विचार विमर्श किया।

तीनों देशों के मंत्रियों ने आईबीएसए कोष, गरीबी उन्मूलन पर प्रगति और भुखमरी खत्म करने से संबंधित विभिन्न मुद्दों की समीक्षा की. बैठक में विदेश मत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि आईबीएसए हमें लोकतंत्र, अनेकता की स्थिति, नियमों और कानून का सम्मान और मुश्किल वैश्विक मुद्दों पर चर्चा के एकसमान सिद्धांत सिखाता है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने किर्गिस्तान के विदेश मंत्री के साथ द्विपक्षीय बैठक की। दोनों नेताओँ ने द्वीपक्षीय मुद्दों पर बात की।