सुरक्षा के लिए सेशेल्स को भारत की मदद

शेयर करें:

भारत और सेशेल्स के बीच सोमवार को कई अहम समझौतों पर सहमति बनी. दोनों देशों ने रक्षा, सुरक्षा, क्षेत्र में शांति स्थिरता, पाइरेसी जैसे मसलों पर सहयोग बढ़ाने का निर्णय लिया है. साथ ही भारत और सेशेल्स सांस्कृतिक आदान-प्रदान बढ़ाने के लिए भी काम करेंगे. सेशेल्स के राष्ट्रपति डैनी फौरे इन दिनों भारत की यात्रा पर हैं. राष्ट्रपति डैनी फौरे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच नई दिल्ली में द्विपक्षीय वार्ता हुई. भारत ने सेशेल्स को समुद्री सुरक्षा क्षमता बढ़ाने के लिए 10 करोड़ डॉलर कर्ज देने की घोषणा की.

दिल्ली स्थित हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सेशेल्स के राष्ट्रपति डैनी फौरे के बीच हुई द्विपक्षीय वार्ता में दोनों देशों के बीच रक्षा, सुरक्षा, क्षेत्र में शांति स्थिरता, पाइरेसी जैसे मसले तथा सांस्कृतिक आदान प्रदान के विषय पर विस्तार से वार्ता हुई. दोनों नेताओं के बीच हुई वार्ता के बाद पीएम मोदी ने कहा कि भारत और सेशेल्स प्रमुख रणनीतिक भागीदार हैं और दोनों देश हिंद महासागर क्षेत्र में शांति एवं स्थिरता कायम रखने को प्रतिबद्ध हैं.

प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देशों के बीच मैरीटाइम सुरक्षा पर बात हुई है और ये तय हुआ कि मिलकर सामूहिक मैरीटाइम सुरक्षा सुनिश्चित की जाए. पीएम ने कहा कि पाइरेसी जैसे तमाम अपराधों से क्षेत्र के देशों को ख़तरा है और इससे निपटने के लिए चौकसी और सहयोग बढ़ाना होगा. प्रधानमंत्री ने कहा कि सेशेल्स की सुरक्षा में मदद करने को भारत प्रतिबद्ध है, जिससे सेशेल्स चुनौतियों से निपट सकेगा. भारत ने सेशेल्स को समुद्री सुरक्षा क्षमता बढ़ाने के लिए 10 करोड़ डॉलर कर्ज देने की घोषणा की.

पीएम मोदी ने कहा कि दोनों देश एक-दूसरे के अधिकारों की मान्यता के आधार पर एजम्प्शन आईलैंड परियोजना पर मिलकर काम करने को सहमत हुए हैं. गौरतलब है कि सेशेल्स के एजम्पसन आइसलैंड की अहमियत भारत की भावी सैन्य सुरक्षा के लिए काफी है. दोनों देशों के बीच वार्ता के बाद छह समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए. इन समझौतों में व्हाइट शिपिंग डेटा के आदान-प्रदान पर समझौता, तीन सिविलियन इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट के लिए समझौता और छोटी विकास परियोजनाओं के लिए वित्तीय मदद हेतु समझौता शामिल है. भारत सरकार सेशेल्स को सरकारी आवास, नए पुलिस मुख्यालय और एटॉर्नी जनरल कार्यालय बनाने में मदद करेगा. भारतीय विशेषज्ञ सेशेल्स में डेपुटेशन पर भेजे जाएंगे.

सेशेल्स के राष्ट्रपति डैनी फौरे ने भी कहा कि दोनों देश एक-दूसरे के हितों का ध्यान रखते हुए साथ मिलकर काम करेंगे. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में भारत के पास तमाम मसलों खासतौर पर रक्षा और सुरक्षा की चुनौतियों से निपटने के लिए दूरदर्शी समझ है.

इससे पहले सेशेल्स के राष्ट्रपति डैनी फौरे का राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने औपचारिक स्वागत किया. राष्ट्रपति भवन में औपचारिक स्वागत के बाद राष्ट्रपति डैनी फौरे ने राजघाट जाकर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित की. सेशेल्स के राष्ट्रपति ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मुलाकात कर द्विपक्षीय सहयोग पर चर्चा की. इसके अलावा उन्होंने भारत-सेशेल्स बिजनेस फोरम की बैठक में भी हिस्सा लिया. फौरे ने अपने देश से लाए दो विशालकाय अलडाबरा कछुए भारत को बतौर तोहफा भेंट किया. ये कछुए 150 वर्षों तक जीवित रहते हैं. पीएम मोदी ने इसके लिए राष्ट्रपति फौरे का धन्यवाद दिया और कहा कि ये दीर्घायु कछुए हमारी लंबी मित्रता के प्रतीक रहेंगे.