अफगानिस्तान में आतंकवाद के खिलाफ भारत निभाए बड़ी भूमिका- ट्रंप

शेयर करें:

भारतीय प्रधानमंत्री और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की दोस्ती का असर अब साफ दिखने लगा है, जिसकी वजह से पाकिस्तान और चीन की मुश्किल बढ़ गई है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर जहां भारत के साथ रिश्तों को मजबूत करने की बात कही तो दूसरी ओर अफगानिस्तान की अभी और मदद का आश्वासन भी दिया।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सोमवार को अपने संबोधन में पाकिस्तान को स्पष्ट संदेश देते हुए कहा कि अब समय आ गया है कि पाकिस्तान आतंकवाद के खिलाफ लड़ने की अपनी प्रतिबद्धता दिखाए। वहीं इसके साथ अमेरिका के राष्ट्रपति ने यह भी कहा कि अमेरिकी लोग बिना विजय के ही युद्ध से थक चुके हैं।

अमेरिका ने एक बार फिर पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ कड़े कदम उठाने का संदेश दिया है।

पाकिस्तान पर कड़ा रुख अख्तियार करते हुए ट्रंप ने कहा, “एक ओर पाकिस्तानी नागरिक आतंकवाद झेल रहे हैं, लेकिन उसी समय पाकिस्तान आतंकवादियों के लिए सुरक्षित स्वर्ग बना हुआ है।”

अफगानिस्तान पर अपनी नीति स्पष्ट करते हुए ट्रंप ने कहा कि हम भारत के साथ गहरे कुटनीतिक संबंध बनाने के साथ अफगानिस्तान की अत्यधिक मदद करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि भारत ने अमेरिका के साथ व्यापार में अरबों डॉलर बनाए हैं। अब हम चाहते हैं कि वे अफगानिस्तान में हमारी मदद करें।

अफगानिस्तान पर बोलते हुए ट्रंप ने कहा हम इराक में अपने पूर्व नेताओं द्वारा की गई गलतियों को नहीं दोहराने वाले। आतंकवादी सिर्फ ठग, अपराधी और दरिंदे हैं। जल्दबाजी में निकल जाने पर एक वैक्यूम बनेगा जिसे ISIS और अलकायदा तेजी से भरेंगे, जिस तरह यह 11 सितंबर से पहले हुआ था। ट्रंप ने आगे कहा, “पाकिस्तान अफगानिस्तान में हमारे प्रयासों की मदद से काफी लाभ कमा सकता है।”