प्रतिबंध के बाद भी नदियों से अवैध उत्खनन जारी

शेयर करें:

नरसिंहपुर@ जिले के विभिन्न नदियों से अवैध उत्खनन का क्रम निरंतर जारी है। बेखबर प्रशासकीय अमला मौन और निष्क्रिय बना हुआ है। ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में इस स्थिति के चलते जल स्तर नीचे खिसक गया है। बोरवेल ठप होने की स्थिति में है। जिनमें अभी थोड़ा बहुत पानी शेष है, उनमें भी पंप के माध्यम से सिंचाई होना संभव नहीं हो पा रहा है। इसी तरह शहरी क्षेत्रों में तो जल स्तर 150-160 फुट से नीचे पहुंचने की वजह से नलियां बढ़वाने की स्थिति बनने लगी है,बारिश के मौसम में बारिश नहीं होने की वजह से नर्मदा सहित जिले में बहने वाली बारूरेवा, शक्कर, शेर, सींगरी व अन्य नदियों में, इस बार पानी का बहाव नहीं दिख रहा है। तटों पर सूखे की स्थिति का फायदा उठाकर आसानी से रेत का उठाव धड़ल्ले से किया जा रहा है। पानी के अभाव में झांसीघाट सहित नर्मदा के विभिन्न घाटों पर नर्मदा के तट खाली दिख रहे हैं। जहां अथाह जलराशि हुआ करती थी, वहां पर तलहटी तक दिख रही है। झांसीघाट के आसपास इलाके में अथाह जल राशि वाले हिस्से में हाल यह है कि गर्मी के मौसम में भी ऐसे हालात नहीं दिखाई देते। शेर नदी में भी जल भराव कम होने की वजह से तट सूखे पड़े हैं। इसके चलते यहां पर ट्रेक्टरों के माध्यम से लगातार उत्खनन कर रेत का परिवहन किया जा रहा है।