आइडिया और वोडाफोन के विलय की सारी औपचारिकताएं पूरी

शेयर करें:

देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनने का रास्ता साफ, एनसीएलटी से मंजूरी मिलने के बाद आइडिया और वोडाफोन के विलय की सारी औपचारिकताएं पूरी, 40 करोड़ ग्राहक और कुल टेलीकॉम बाजार का 40 फीसदी हिस्से पर होगा नई कंपनी का कब्ज़ा

पिछले महीने टेलीकॉम डिपार्टमेंट से अंतिम मंजूरी मिलने के बाद वोडाफोन-आइडिया के मर्जर को NCLT की मंजूरी का इंतजार था. अब NCLT ने भी इसे अंतिम मंजूरी दे दी है. अब देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी के बनने में कोई रुकावट नहीं है.

देश के टेलीकॉम सेक्टर में इस मर्जर के बाद तीन बड़ी कंपनियां- भारती एयरटेल, रिलायंस जियो इन्फोकॉम और वोडाफोन-आइडिया लिमिटेड होंगी. टेलीकॉम मार्केट में रिलायंस जियो के आने से ही टैरिफ वॉर चल रहा है. अब इस मर्जर के बाद इसके दोबारा बढ़ने के आसार हैं.

अभी तक देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी भारती एयरटेल है. लेकिन, इनके मर्जर के बाद देश की सबसे बड़ी कंपनी वोडाफोन-आइडिया लिमिटेड होगी. नई कंपनी के पास लगभग 44 करोड़ सब्सक्राइबर्स होंगे. इसका रेवेन्यू मार्केट शेयर 34.7% होगा. कंपनी का रेवेन्यू 60,000 करोड़ रुपए से अधिक का होगा, लेकिन इस पर 1.15 लाख करोड़ रुपए से अधिक का संयुक्त कर्ज भी रहेगा.