मानव संसाधन मंत्रालय ने जारी की उच्च शिक्षण संस्थानों की रैंकिंग

शेयर करें:

मानव संसाधन मंत्रालय ने उच्च शिक्षण संस्थानों की रैंकिंग जारी की है। इंडिया रैंकिंग 2018 में बेंग्लुरू का आईआईएससी रहा पहले स्थान पर, जेएनयू को दूसरा और बनारस हिंदु विश्वविद्यालय को तीसरा स्थान मिला है। वहीं आईआईएम अहमदाबाद और आईआईटी मद्रास शीर्ष प्रबंधन और इंजीनियरिंग में सर्वश्रेष्ठ कॉलेज रहे।

केंद्र सरकार ने उच्च शैक्षिक संस्थानों के लिए इंडिया रैंकिंग्स 2018 जारी कर दी है। इस साल पहली बार मेडिकल और डेंटल कॉलेजों की भी रैंकिंग की गई है। मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर ने नैशनल इंस्टिट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क यानि एनआईआरएफ के तहत संस्थानों की रैंकिंग जारी की।

इंडिया रैंकिंग 2018 में उच्च शिक्षण संस्थानों में बेंग्लुरू का आईआईएससी ने पहला स्थान हासिल किया जबकि जेएनयू ने दूसरा और बनारस हिंदु विश्वविद्यालय को तीसरा स्थान मिला। चेन्नई का अन्ना विश्वविद्यालय चौथा और हैदराबाद विश्वविद्यालय ने पांचवा स्थान हासिल किया।

शीर्ष इंजीनियरिंग कॉलेज में आईआईटी मद्रास को पहला, बांबें को दूसरा, दिल्ली को तीसरा, खड़गपुर को चौथा जबकि आईआईटी कानपुर को पांचवा स्थान मिला है। इसी तरह सरकार ने कॉलेजों के लिए भी रैंकिंग जारी की है। दिल्ली में मिरांडा हाउस और सेंट स्टीफेंस कॉलेज ने पहला और दूसरा स्थान हासिल किया है।

मेडिकल कॉलेज में एम्स, पीजीआई चंडीगढ और क्रिस्चियन मेडिकल कॉलेज वेलौर को क्रमश पहला दूसरा और तीसरा स्थान हासिल किया है। सूची जारी करते हुए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कि सरकार अच्छे संस्थानों की ऑटोनोमी को लेकर प्रतिबद्ध है।

दरअसल, एनआईआरएफ ने पहली बार साल 2016 में रैंकिंग की थी। उस समय चार कैटिगरी-यूनिवर्सिटी, इंजिनियरिंग, मैनेजमेंट और फार्मेसी में रैंकिंग हुई थी। 2017 में ओवरऑल और कॉलेज कैटिगरी को शामिल किया गया।