सर्दियों में हृदय रोगी कैसे रखें अपना ख्याल

शेयर करें:

स्‍वस्‍थ शरीर के लिए ह्रदय का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है। सर्दियों में ह्रदय के लिए ख़तरा बढ़ जाता है इसलिए दिल के प्रति लापरवाही बिल्कुल भी न बरतें। इस मौसम में हृदय के मरीजों को अत्यन्त सावधानी के साथ अपनी जीवन शैली में बदलाव करने चाहिए। इस रिपोर्ट से समझते है की सर्दियों में ह्रदय को लेकर क्या ध्यान रखना आवश्यक है।

हृदय रोगी को इस मौसम में अपनी खास केयर करने की जरूरत होती है। तापमान में बदलाव आने के कारण शरीर में भी कई तरह के बदलाव आने शुरू हो जाते हैं। शरीर में गर्माहट बनाए रखने के लिए हमारी रक्त वाहिनियों में सिकुड़न आने लगती है और पसीना न आने के कारण बॉडी में नमक जमा होने लगता है। इस स्थिति में ब्लड प्रैशर हाई होने का डर रहता है। इससे दिल पर दवाब पड़ना शुरू हो जाता है और कई बार तो सांस लेने में भी परेशानी होने लगती है। सर्दियों को एंज्वाय करने के लिए जरूरी है अपने दिल के स्वास्थ्य का पूरी तरह से ख्याल रखना।

सावधानियां

ब्लडप्रैशर और दिल की बीमारी से ग्रस्त लोगों को सर्दी के मौसम में कम कैलोरी वाला खाना खाना चाहिए। इससे रक्तचाप नियंत्रित रखने में आसानी रहेगी।

सैर करने से सेहत अच्छी रहती है लेकिन सुबह-सुबह धुंध में टहलने न जाएं। सर्दी में सैर करने लेकिन धूप निकलने के बाद। बाहर जाने से अच्छा है कि घर पर योग और एक्सरसाइज करनी चाहिए।

इस समय अपने वजन पर पूरा नियंत्रण रखें। वजन बढ़ने से ब्लड प्रैशर का खतरा भी बढ़ने लगता है। सर्दी के मौसम में समय-समय पर डॉक्टरी जांच जरूर करवाएं।

कुछ लोग सर्दी से बचने के लिए हीटर का इस्तेमाल करते हैं लेकिन बंद कमरे में हीटर लगा कर बैठे रहने से नमी की कमी होने लगती है। इस कारण खांसी और गले की इंफैक्शन होने का डर रहता है। हीटर का लगातार इस्तेमाल करें और गर्म पानी का सेवन करें।

खुद को स्वस्थ रखने के लिए सोने से पहले 2 मिनट के लिए गर्म पानी से भाप लें। इससे हाई ब्लड प्रैशर,डायबिटीज और दिल के रोगियों को राहत मिलती है।