स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में सनसनीखेज खुलासा: गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल की लापरवाही से हुई थी बच्चे की मौत

शेयर करें:

गुरुग्राम. दिल्ली से सटे गुरुग्राम के अस्पताल से लापरवाही का मामला सामने आया है. स्वास्थ्य विभाग की जांच में खुलासा हुआ है कि गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल की लापरवाही से बच्चे की मौत हुई थी. ये मामला मई 2017 का है जब डेढ़ साल के मासूम बच्चे की मौत हुई. परिजनों के बाद न्याय की गुहार लगाने के बाद इस मामले में जांच शुरू हुई थी.

गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल से एक और मामला सामने आया है जिसमें अस्पताल की लापरवाही के चलते डेढ़ साल के बच्चे की मौत हो गयी. स्वास्थ्य विभाग की जांच में पाया गया कि अस्पताल की लापरवाही की वजह से बच्चे की जान गई है. बता दें अस्पताल वालों ने बच्चे के परिवार का 27 लाख रुपये का बिल बनाया था

स्वास्थ्य रिपोर्ट ने अपनी रिपोर्ट् जारी की जिसमें स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल की लापरवाही की बात मानी. इस बच्चे का नाम वंश बताया जा रहा है. जिसकी उम्र केवल डेढ़ साल की थी. वंश को बोर्नमेरो ट्रांसप्लांट के इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. इलाज के दौरान अस्पताल में इंफेक्शन के कारण बच्चे की मौत हुई इस बात का खुलासा स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में हुआ. बता दें आमतौर पर बोनमेरो ट्रांसप्लांट मरीज का बोन कैंसर के लिंफोमा, मल्टीपल माइलोमा और ल्यूकेमिया आदि जैसी बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है.

ये मामला पिछले साल 15 मई का है. जब परिवार ने न्याय की गुहार लगाई और अस्पताल के खिलाफ जांच की मांग की. इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने जांच की और इस लापरवाई का खुलासा किया. परिवार ने बताया कि अस्पताल वालों ने 27 लाख रुपये भारी भरकम बिल बनाया था. गौरतलब है कि पिछले साल एक डेंगू पीड़ित बच्ची के दौरान उसकी मौत हो गई थी और अस्पताल ने 18 लाख का बिल बना दिया था.