स्वास्थ्य विभाग इस महीने मना रहा है पोषण जागरूकता

शेयर करें:

हर जिले में जागरूकता शिविर का किया जारहा है आयोजन, आशा और आंगनबाड़ी की टीम महिलाओं को कर रही है जागरूक, अभियान का मकसद कुपोषण पर लगाम लगाना,खून की कमी दूर करना

महिलाओं को पोषण के प्रति जागरूक करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने बच्चों के पोषण के लिए जागरूकता लाने का संकल्प लिया है। आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मानदेय में बढोतरी ने जागरूकता शिविर में इन कार्यकर्ताओं का उत्साह बढाया है।

1 सितंबर से 30 सितंबर तक चल रहे पोषण अभियान के तहत विभिन्न गतिविधियों में एएनएम, आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की भूमिका बेहद महत्वपूर्ण है। इन तीनों विभाग की कार्यकर्ताओं को जागरुक करने के मकसद से जम्मू कश्मीर के उधमपूर में जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।

स्वास्थ्य विभाग ने अपने सभी पीएचसी, सीएचसी और जिला अस्पतालों में आशा और एएनएम वर्करों को निर्देश दिया है कि वे गर्भवती महिला और नवजात बच्चों की मां को स्तनपान के सही तरीके सिखाएं। साथ ही गर्भवती महिलाओं को फॉलिक एसिड और आयरन की गोलियां दी जाएं।

स्वास्थ्य विभाग, जिला महिला व बाल विकास विभाग और शिक्षा विभाग के सहयोग से लड़कियों को पोषण आहार के लिए जागरूक किया जारहा है। महिला एवं बाल विकास विभाग की टीम महिलाओं को इसके प्रति जागरूक कर रही है।

इस अभियान का बुनियादी मकसद कुपोषण पर लगाम लगाना और महिलाओं, किशोरियों एवं बच्चों में खून की कमी दूर करना है। बच्चों में कुपोषण की समस्या की तरफ ध्यान देना अनिवार्य है ताकि हर बच्चा एक उज्जवल और स्वस्थ्य भविष्य की तरफ आगे बढ़ सके।