पाकिस्तान में सरकार बनाने की कवायद; इमरान की पार्टी सबसे आगे

शेयर करें:

पाकिस्तान में पूर्व क्रिकेटर इमरान खान की पार्टी पीटीआई पार्टी भले ही चुनाव सबसे अधिक सीटें जीतने में कामयाब हो गई हो लेकिन अभी भी बहुमत से दूर है। इन सबके बीच सत्ता हासिल करने के लिए पाकिस्तान की राजनीति दिलचस्प मोड़ पर पहुंच गई है।

पाकिस्तानी अखबार डॉन के मुताबिक सोमवार को हुए घटनाक्रम में नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल एन ने बिलावल भुट्टो की पार्टी पीपीपी के साथ हाथ मिला लिया है। नवाज शरीफ की पीएमएल एन को 64 सीटों पर जीत हासिल हुई है, जबकि पीपीपी को 43 सीटों पर जीत मिली है । पीएमएल एन और पीपीपी को मिलाकर 107 सांसद होते हैं; जबकि इमरान खान की पार्टी ने 115 सीटों पर जीत हासिल की है।

इमरान समेत उनके कई नेता कई सीटों पर चुनाव लड़कर जीते हैं। उन सबके इस्तीफों के बाद इमरान की पार्टी 107 सांसद बचते हैं। मौलाना फजलुर रहमान की पार्टी एमएमए (MMA) के पास 12 सीटें हैं। फिलहाल फजलुर रहमान ने चुनाव परिणाम के बहिष्कार की घोषणा की है। ऐसे में विपक्ष के पास 119 सीटें होती है। हालांकि उनके कुछ नेता भी दो सीटों से जीते हैं जिससे उनकी संख्या 117 हो जाएगी जो इमरान की पार्टी से ज्यादा है।

इमरान के साथ किसी भी दल के गठबंधन की कवायदें उस वक्त धुंधली नजर आने लगीं जब पाक में सियासी दलों के एक समूह ने एक बैठक करके चुनाव नतीजों को खारिज कर दिया। इन विपक्षी पार्टियों ने इमरान के खिलाफ खेमेबाजी तेज करते हुए पारदर्शी तरीके से दोबारा चुनाव कराने की मांग की है।ऑल पार्टीज कांफ्रेंस (एपीसी) की इस संयुक्त बैठक में कहा गया कि जब तक देश में दोबारा पारदर्शी व निष्पक्ष चुनाव नहीं कराए जाते हैं तब तक इमरान खान की पार्टी पीटीआई के सांसदों को संसद में नहीं घुसने दिया जाएगा।

इन सबके बीच इमरान खान का कहना है कि वह 11 अगस्त को पाकिस्तान के नये प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करेंगे। फिलहाल दोनों पक्षों के पास बहुमत का आंकडा नही है । लेकिन जिस तरह से तमाम दल एकजुट हो रहे हैं उससे इमरान के लिए मुश्किल हो सकती है।