Haridwar Mahakumbh Mela 2021 : यहां जानें महाकुंभ हरिद्वार, की सभी शाही स्नान डेट्स

शेयर करें:

हरिद्वार@ कुंभ मेला हिंदुओं का सबसे बड़ा धार्मिक आयोजन है जो कि इस बार हरिद्वार में आयोजित होगा. महाकुम्भ भारत का एक प्रमुख उत्सव है जो ज्योतिषियों के अनुसार तब आयोजित किया जाता है जब बृहस्पति कुंभ राशि में प्रवेश करता है. कुम्भ का अर्थ है घड़ा. यह एक पवित्र हिन्दू उत्सव है. यह भारत में चार स्थानो पर आयोजित किया जाता है प्रयाग इलाहाबाद, हरिद्वार, उज्जैन और नासिक.

पौराणिक आख्यानों के अनुसार समुद्रमंथन के दौरान निकला अमृतकलश १२ स्थानों पर रखा गया था जहां अमृत की बूंदें छलक गई थीं. इन १२ स्थानों में से आठ ब्रह्मांड में माने जाते हैं और चार धरती पर जहां कुंभ लगता है. हिन्दू धर्म में मान्यता है कि इस मेले में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है. इस बार कुंभ मेले में कुल चार शाही स्नान होंगे. उनके के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं.

प्रथन शाही स्नान 11 मार्च 2021 महा शिवरात्रि पृथ्वी पर गंगा की उपस्थिति का श्रेय भगवान शिव को दिया जाता है, जिन्होंने स्वर्ग से एक विशाल बल के साथ उतरते हुए गंगा को अपने तांडव में बंद कर दिया था. इस दिन एक शादी स्नान को आध्यात्मिक रूप से अनूठा अनुभव माना जाता है.

दूसरा शाही स्नान 12 अप्रैल 2021 सोमवती अमावस्या सोमवती अमावस्या पर गंगा स्नान का विशेष महत्व है. ऐसा माना जाता है कि चंद्रमा जल का कारक है. अमावस्या के दिन शाही स्नान को अमृत के समान माना जाता है.

तीसरा शाही स्नान 14 अप्रैल 2021 बैसाखी, मेष संक्रांति इस शुभ दिन पर, नदियों का पानी अमृत में बदल जाता है. ज्योतिष के अनुसार, इस दिन पवित्र गंगा में शाही स्नान करने से सभी पाप खत्म हो जाते हैं.

चौथा शाही स्नान 27 अप्रैल 2021 चैत्र पूर्णिमा यह पवित्र गंगा में स्नान करने के सबसे महत्वपूर्ण दिनों में से एक है और इसे लोकप्रिय रूप से अमृत योग के दिन के रूप में जाना जाता है.