जर्मनी से आए कॉल पर ग्वालियर पुलिस ने पहुंचाई उसके माता-पिता को दवा

शेयर करें:

ग्वालियर। लॉक डाउन में लोगों की सुरक्षा कर रही पुलिस इस समय समाजसेवी की भूमिका भी निभा रही है। वो लोगों तक हर जरूरत की चीज उपलब्ध करा रही है। ऐसा ही एक मामला सामने आया है जिसमें पुलिस ने जर्मनी से आये कॉल पर बुजुर्ग दंपति को दवा पहुंचाई।

लॉक डाउन में घर पर फंसे लोगों की सहायता के लिए ग्वालियर पुलिस अधीक्षक ने हेल्प लाइन नंबर जारी किये हैं। जिसपर परेशानी में फंसे लोग फोन या मैसेज कर रहे हैं और पुलिस उनकी मदद कर रही है। लेकिन मंगलवार को पुकीस के हेल्प लाइन नंबर पर जर्मनी से मैसेज आया।

पुलिस अधीक्षक नवनीत भसीन ने मैसेज पढ़ने के बाद पलटकर फोन लगाया तो फोन करने वाले व्यक्ति ने अपनी समस्या बताई। फोन करने वाले ने बताया कि उसका नाम सुजान दोहरे है वो जर्मनी की यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर है और परिवार के साथ वहाँ रहता है।

लेकिन उसके बुजुर्ग पिता कालूराम और माँ कंठश्री ग्वालियर में मकान नंबर 152 रवि नगर में रहते हैं सुजान ने एसपी से कहा कि पिता हार्ट पेशेंट हैं उनकी दवा खत्म हो गई है । सुजान में झिझकते हुए कहा कि अब तक लॉक डाउन में जो रिश्तेदार दवा पहुंचा रहे थे अब वे पुलिस की सख्ती के कारण घर से नहीं निकल पा रहे प्लीज मदद कीजिये।

सुजान से बात करने के बाद एसपी नवनीत भसीन ने पड़ाव थाने के टी आई को पूरी जानकारी उपलब्ध कराई और बुजुर्ग के घर दवा पहुंचाने के लिए कहा पड़ाव थाने के टी आई ज्ञानेंद्र सिंह ने बताया कि एसपी का आदेश मिलते ही उन्होंने मेडिकल स्टोर से दवा मंगवाई और आरक्षक शैलेंद्र परमार के हाथ से सुजान के माता पिता के पास दो महीने की पहुंचा दी। टी आई ने बताया कि दवा मिलने के बाद सुजान से जर्मनी से मैसेज कर ग्वालियर पुलिस को धन्यवाद दिया है।

उन्होंने व्हाट्स एप मैसेज कर कहा है कि ” जय हो ग्वालियर पुलिस” । टीआई ने कहा कि ग्वालियर पुलिस जिले के हर नागरिक कि सुरक्षा के लिए तैनात है और कोरोना संकट में आपकी हर जरूरत को पूरा करने में हरदम आपके साथ हैं। उन्होंने अपील की कि लोग लॉक डाउन के नियमों का पालन करें और घर में रहे। यदि कोई परेशानी या जरूरत है तो ग्वालियर पुलिस के हेल्पलाइन नंबर पर सूचित करें।