ग्वालियर वासी अपने प्रिय नेता को पुष्पांजलि अर्पित करने से रह गये वंचित

शेयर करें:

ग्वालियर। देशभर में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटलबिहारी वाजपेयी के अस्थि कलश आम लोगों की श्रद्धांजलि के लिये घूमाया जा रहे हैं, लेकिन ग्वालियर में स्व. अटल जी के अस्थि कलश को आम लोगों की श्रद्धांजलि के लिये घुमाने में भी संभवत: क्षेत्रवार साजिश की गई।

स्व. अटल जी के अस्थि कलश घुमाने के लिये भाजपा के बडे नेताओं ने जानबूझकर खाली और कम भीड वाली सडकों व क्षेत्रों का चयन किया, जिसमें अस्थि कलश पर शहर वासी अपने प्रिय नेता को पुष्पांजलि अर्पित करने से वंचित रह गये।

अटल जी के अस्थि कलश को एयरपोर्ट, दीनदयाल नगर, गोवर्धन कालोनी, गोला का मंदिर, से सिटी सेंटर, चेतकपुरी, होकर महाराज बाडे व फूलबाग ले जाया गया। जबकि उपनगर ग्वालियर व दक्षिण के कई प्रमुख इलाकों में कलश को नहीं घुमाया गया, यहां तक की उनके पैत्रृक आवास पर भी अस्थि कलश को नहीं ले जाया गया।

स्व. अटल जी के अस्थि कलश को किला गेट , फोर्ट रोड , सेवा नगर, हजीरा, तानसेन रोड भी नहीं ले जाया गया जबकि अटल जी अपने छात्र जीवन व राजनैतिक शुरूआत में इन क्षेत्रों में सर्वाधिक आते जाते थे। इसके अलावा इन क्ष्ेात्रों में आज भी ग्वालियर की आबादी का सबसे बडा वर्ग रहता है।

ऐसा लगता है कि प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री जयभान सिंह पवैया का क्षेत्र होने के कारण जानबूझकर कलश को श्रद्धाजंलि हेतु यहां नहीं लाया गया जबकि यहां भारी भीड उमडती। इसी प्रकार माधौगंज, सिकंदर कंपू, मुरार, पडाव जैसे भीड भरे क्षेत्र भी छोड दिये गये।