Skip to content

पर्यटन बढ़ाने के लिए पाक बॉर्डर पर गुजरात सरकार और बीएसएफ ने शुरू किया सीमा दर्शन कार्यक्रम

इस ख़बर को शेयर करें:

सीमावर्ती इलाकों में पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से गुजरात सरकार और सीमा सुरक्षा बल ने मिलकर पाकिस्तान से लगते बॉर्डर पर सीमा दर्शन कार्यक्रम की शुरुआत की है। पिछले साल दिसंबर में शुरू हुआ ये कार्यक्रम बेहद सफल रहा है और इसके जरिए लोगों को सीमा की सुरक्षा में लगे जवानों की कार्यपद्धति को जानने और समझने का मौका मिल रहा है। जवानों की जोशभरी आवाज और परेड की ऐसी धमक कि देखने वालों के दिलों में देशभक्ति की भावना का संचार हो उठे।

ये नजारा है गुजरात के बनासकांठा जिले स्थित बीएसएफ के नाराबेट बॉर्डर आउटपोस्ट का, जहां रिट्रीट समारोह का आयोजन किया जा रहा है। गुजरात सरकार और बीएसएफ के मिलेजुले प्रयास से पिछले साल दिसंबर में पाकिस्तान की सीमा से लगते इस पोस्ट पर सीमा दर्शन कार्यक्रम की शुरुआत की गई। रिट्रीट समारोह इसी कार्यक्रम का हिस्सा है, जिसे देखने के लिए गुजरात के अलावा राजस्थान और महाराष्ट्र से हजारों की तादाद में लोग आते हैं।

बीएसएफ का मकसद सीमा दर्शन कार्यक्रम के जरिए बॉर्डर टूरिज़्म को बढ़ावा देना है। इसे लोगों का अपार समर्थन मिल रहा है और हर शनिवार और रविवार को आयोजित होने इस कार्यक्रम को अबतक करीब 3 लाख लोग देख चुके हैं। सीमा दर्शन कार्यक्रम के माध्यम से लोगों को पाकिस्तान के साथ लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा को देखने का मौका मिलता है, साथ ही बीएसएफ के जवान किस तरह सीमा की सुरक्षा में मुस्तैद रहते हैं ये जानने और समझने का मौका भी लोगों को मिलता है।