वैक्सीनेशन अभियान के तीसरे चरण के लिए सरकार ने राज्यों को जारी की गाइडलाइंस

शेयर करें:

कोरोना वायरस महामारी की तीसरी लहर के कोहराम के बीच देश में 1 मई से वैक्सीनेशन अभियान का तीसरा चरण शुरू होगा। इसमें 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। इसको लेकर केंद्र सरकार ने शनिवार को गाइडलाइंस जारी करते हुए सभी राज्यों और केंद्र शासित पदेशों को इसका अमल करने के लिए कहा है। इसमें राज्यों को ज्यादा वैक्सीनेशन सेंटर बनाने तथा मिशन मोड पर लोगों का पंजीयन करने को कहा है।

सरकार ने 19 अप्रैल को की थी घोषणा
देश में बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए केंद्र सरकार ने 1 मई से देश में वैक्सीनेशन अभियान का तीसरा चरण शुरू करने तथा इसमें 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों को वैक्सीन लगाने की घोषणा की थी। इसके अलावा इस चरण में सरकार ने राज्य सरकारों को सीधे वैक्सीन निर्माताओं से खरीद के अधिकार भी दिए थे। इसी तरह कंपनियों को 50 प्रतिशत आपूर्ति राज्यों और खुले बाजार में बेचने की छूट दी थी।

देश में क्या है वैक्सीनेशन अभियान की स्थिति?
देश में चल रहे दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीनेशन अभियान की बात करें तो अब तक वैक्सीन की 13,83,79,832 खुराकें लगाई जा चुकी हैं। बीते दिन 29,01,412 खुराकें लगाई गईं। अभी 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने बैठक के दौरान जारी की गाइडलाइंस
हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने शनिवार को कोरोना महामारी के लिए प्रौद्योगिकी और डेटा प्रबंधन पर सशक्त समूह के अध्यक्ष डॉ आरएस शर्मा के साथ विशेष बैठक कर गाइडलाइंस जारी की। इसमें उन्होंने राज्यों को वैक्सीनेशन अभियान के तीसरे चरण के लिए निजी अस्पताल और उद्योग संघों के साथ समन्वय करते हुए अधिक से अधिक संख्या में केंद्र बनाने तथा मिशन मोड पर लोगों का पंजीयन करने करने को कहा।

वैक्सीन खरीदने वाले अस्पतालों की करनी होगी निगरानी
गाइडलाइंस के अनुसार राज्यों को वैक्सीन खरीदने और कोविन (CoWin) वेबसाइट पर कीमत घोषित करने वाले अस्पतालों की निगरानी, वैक्सीनेशन स्लॉट साथ पात्र लोगों के लिए शेड्यूल घोषित करना और वैक्सीन की प्रत्यक्ष खरीद के संबंध में निर्णय को प्राथमिकता देनी होगी। इसी तरह 18-45 वर्ष आयु वर्ग के लिए केवल ऑनलाइन पंजीयन किए जाने और कर्मचारियों को दुष्परिणाम प्रबंधन और कोविन वेबसाइट के उपयोग के लिए प्रशिक्षण देना होगा।

राज्यों को दी फील्ड अस्पताल संचालित करने की सलाह
केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को तेजी से बढ़ती संक्रमितों की संख्या को देखते हुए अतिरिक्त समर्पित कोरोना अस्पतालों की पहचान करने, सार्वजनिक और निजी क्षेत्र में DRDO या CSIR के सहयोग से फील्ड अस्पताल संचालित करने की सलाह दी हैै। इसी तरह अस्पतालों में ऑक्सीजन समर्थित बेड, ICU बेड्स और ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करने, अतिरिक्त एंबुलेंसों की तैनाती करने और बेड्स के लिए केंद्रीयकृत कॉल सेंटर आधिारित सेवा शुरू करने के भी निर्देश दिए हैं।

केंद्र ने राज्यों को दी बेड्स का रिकॉर्ड रखने की सलाह
केंद्र राज्यों को आम जनता की सुविधा के लिए अस्पतालों में उपलब्ध बेड्स का रियल टाइम व्यवस्था बनाने, निजी स्वास्थ्स सुविधाओं को मजबूत बनाने, क्वारंटाइन मरीजों के लिए केंद्रों की संख्या बढ़ाने, घर पर क्वारंटाइन मरीजों को टेलीमेडिसिन सुविधाएं देने, बड़े अस्पतालों में इन हॉस्पिटल ऑक्सीजन प्लांट संचालिन करने की भी सलाह दी है। इसके अलावा कोरोना ड्यूटी में लगी आशा और अन्य फ्रंटलाइन वर्करों को समय पर भुगतान करने को भी कहा है।

भारत में यह है कोरोना संक्रमण की स्थिति
भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से संक्रमण के 3,46,786 नए मामले सामने आए और 2,624 मरीजों की मौत हुई। ये देश में एक दिन में सामने आए सबसे ज्यादा मामले और मौतें हैं। इसी के साथ देश में कुल संक्रमितों की संख्या 1,66,10,481 हो गई है। इनमें से 1,89,544 लोगों को इस खतरनाक वायरस के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी है। सक्रिय मामलों की संख्या 25 लाख के आंकड़े को पार करके 25,52,940 हो गई है।