प्रदेश के बंजर/ बीहड़/जल जमाव क्षेत्रों के सुधार हेतु दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्धि योजना को राज्यपाल की मंजूरी

शेयर करें:

उत्तर प्रदेश में बंजर/बीहड़/जल जमाव क्षेत्रों के उपचार एवं सुधार हेतु पं0 दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्धि योजना के कार्यान्वयन को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक ने स्वीकृति प्रदान कर दी है। इस योजना को वर्ष 2017-18 से वर्ष 2021-22 तक लागू किया जायेगा।

उ0प्र0 में जनसंख्या स्थिर गति से ही सही परन्तु लगातार बढ़ रही है। इस अनुपात में कृषि उत्पादकता में वृद्धि नहीं हो पा रही है। आवश्यकता इस बात की है कि जनसंख्या वृद्धि के अनुपात में ही खाद्यान्न उत्पादन में भी वृद्धि हो। प्रति वर्ष 25-30 हजार हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि गैर-कृषि योग्य भूमि में परिवर्तित हो रही है। इस वजह से बढ़ती हुई जनसंख्या को खाद्यान्न उपलब्ध कराना और भी मुस्किल हो जायेगा। कम उपजाऊ भूमि को सुधार कर अधिक उपजाऊ बनाना जरूरी है।
ग्रामीण क्षेत्रों में बीहड़/बंजर/जलजमाव क्षेत्रों को सुधारने, कृषि मजदूरों को आवंटित भूमि का उपचार कराने तथा उन्हें आजीविका उपलब्ध कराने के लिए पं0 दीनदयाल उपाध्याय किसान समृद्धि योजना चलायी जायेगी। योजना के तहत लाभार्थी के चयन में परियोजना क्षेत्र के समस्त कृषक एवं कृषि श्रमिक पात्र होंगे। परियोजना का चयन जल समेट क्षेत्र के आधार पर किया जायेगा। उन क्षेत्रों को वरीयता दी जायेगी जहां आवंटी अनुसूचित जाति/जन जाति का हो या लघु तथा सीमांत कृषक हो।
कुल 171186 हेक्टेयर भूमि का उपचार या सुधार किया जाना है। योजना के समीक्षा, अनुश्रवण हेतु राज्य स्तर पर कृषि उत्पादन आयुक्त, मण्डल स्तर पर मण्डलायुक्त, जिला स्तर पर जिलाधिकारी की अध्यक्षता में समित होगी।