बाढ़ पीड़ितों तक राहत पहुंचाने पर सरकार का ज़ोर

शेयर करें:

देश के कई इलाके इन दिनों भारी बारिश से बदहाल हैं. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में शुक्रवार को भारी बारिश हुई. उत्‍तर प्रदेश में भी लगातार हो रही बारिश और बाढ़ से कई लोगों की मौत हो चुकी है.

मॉनसून की बारिश की मार सितंबर महीने में भी जारी है. एक तरफ उत्‍तर प्रदेश में हो रही लगातार बारिश और बाढ़ से राज्य के कई जिले प्रभावित हैं, तो वहीं केरल में आई बाढ़ के बाद की स्थिति और राहत शिविरों का जायजा लेने के लिए स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा शुक्रवार को वहां पहुंचे.

उत्तर प्रदेश में बारिश और बाढ़ की वजह से पांच लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं. कई लोगों की मौत भी हो चुकी है. बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने के लिए खुद मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार उन्नाव, कानपुर, फर्रुखाबाद और बाराबंकी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया. मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्षा और बाढ़ के कारण जिनके मकान गिर गए हैं, उन्‍हें प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना के अंतर्गत मकान दिए जाएंगे.

केरल में आई बाढ़ की स्थिति और राहत शिविरों का जायजा लेने के लिए स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा शुक्रवार को राज्य के दौरे पर रहे. इस दौरान उन्होंने कहा कि केरल में पैदा हुई अप्रत्याशित स्थिति से निपटने के लिए केंद्र सरकार पूरी तरह साथ है. खुद प्रधानमंत्री स्थिति पर लगातार नजर बनाए हुए हैं. कोच्चि में संवाददाताओं से बात करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि मंत्रालय ने दवाइयां और अन्य राहत सामग्री राज्य को मुहैया कराई है.

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में भी भारी बारिश हुई. भारी बारिश की वजह से राजधानी शिमला में जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया. सड़कों पर पानी भर गया, जिसकी वजह से यातायात पर भी प्रभाव पड़ा है. मौसम विभाग के मुताबिक राज्य में अभी बारिश का दौर जारी रह सकता है.

झारखंड और ओडिशा के तमाम हिस्सों में भी बारिश का दौर जारी है. उम्मीद की जानी चाहिए कि जल्द ही बाढ़ की विभीषिका से निजात मिल जाएगी और सामान्य जनजीवन एक बार फिर से पटरी पर वापस लौट पाएगा.