मध्य प्रदेश के सरकारी अस्पतालों में है नि:शुल्क डायलिसिस सुविधा

शेयर करें:

उज्जैन | प्रदेश के 51 जिला अस्पतालों में 26 जनवरी, 2016 से किडनी मरीजों के लिये नि:शुल्क डायलिसिस सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। अन्य शासकीय अस्पताल में सुविधा का विस्तार करने के लिये विभाग को 25 करोड़ की राशि उपलब्ध करवाई गई है। मध्य प्रदेश देश का पहला राज्य है जहाँ जिला स्तर पर नि:शुल्क डायलिसिस की सुविधा दी जा रही है। केन्द्र शासन ने भी मध्यप्रदेश को रोल मॉडल मानते हुए देश के हर जिले में डायलिसिस इकाइयों की स्थापना की घोषणा की है।

मरीज को समान्यत: सप्ताह में दो बार डायलिसिस की आवश्यकता होती है। जिसके लिए रोगी को माह में लगभग 20-25 हजार रुपये तक खर्च करना पड़ता था। शासकीय अस्पताल में गरीबी रेखा के नीचे रहने वाले मरीजों को यह सुविधा पूर्णत: नि:शुल्क और एपीएल मरीजों को मात्र 500 रुपये प्रति सत्र की दर से उपलब्ध करवाई जा रही है। यह सुविधा प्रारंभ होने से पहले किडनी रोग पीड़ित मरीज जो बड़े शहर या राज्य के बाहर जाकर इलाज करवाते थे, उन्हें अब यह सुविधा उनके जिले में ही मिलने लगी है।

किडनी मरीजों के लिए वरदान
नरसिंहपुर जिले के 32 वर्षीय करेली निवासी श्री शाकिर मोहम्मद ने बताया कि वे पहले जबलपुर के निजी अस्पताल में डायलिसिस करा रहे थे। जहाँ उन्हें हर बार 2,500 रुपये का खर्चा आता था। इसी तरह ग्राम मगरदा निवासी 40 वर्षीय श्रीमती विमला बाई ने बताया कि वे मार्च 2016 से लगातार डायलिसिस पर हैं और उन्हें 96 बार सुविधा का लाभ मिल चुका है। यदि शासकीय सहायता न मिलती तो श्रीमती विमला बाई इस इलाज का खर्च नहीं उठा पातीं। उनके परिजनों ने कहा कि यह सुविधा किडनी मरीजों के लिये वरदान सिद्ध हो रही है।