गोवा, पंजाब में मतदान कल

शेयर करें:

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों की प्रक्रिया अब अहम दौर में प्रवेश कर चुकी है। पंजाब और गोवा में चुनाव प्रचार कल थम गया। दोनों राज्यों की सभी सीटों के लिए कल वोट डाले जाएंगे।  पंजाब की बात करें तो राज्य में 117 विधानसभा सीटें है और इन सीटों के लिए एक करोड़ 92 लाख से ज्यादा मतदाता वोट डाल सकते हैं। बीते एक दशक से पंजाब में अकाली और भाजपा गठबंधन की सरकार है।

आम तौर से पंजाब में अकाली-भाजपा और कांग्रेस में सीधी लड़ाई होती रही है, लेकिन इस बार आम आदमी पार्टी ने पंजाब के चुनावों को त्रिकोणीय बना दिया है। साथ ही बसपा भी 111 सीटों से अपने उम्मीदवार उतार कर चुनावी लड़ाई को बहु-कोणीय बनाने की कोशिश कर रही है।

निर्वाचन आयोग ने पंजाब में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर शनिवार को अवकाश की घोषणा की है, ताकि मतदाताओं को अपने मताधिकार का इस्‍तेमाल करने में सुविधा हो। पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के महासंग्राम के पहले चरण में शनिवार को पंजाब की 117 विधानसभा चुनावों के लिए वोट डाले जाएंगे । मतदान से 48 घंटे पहले गुरुवार शाम पांच बजे प्रचार समाप्‍त हो गया । शनिवार सुबह सात बजे से पूरे राज्य में एक ही चरण में मतदान होगा ।

आखिरी दिन तमाम राजनीतिक दलों ने प्रचार में पूरी ताकत झोंकी दी । प्रचार के आखिरी दिन सभी दलों ने मतदाताओं को लुभाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी । कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने जहां संगरूर में लोगों से वोट मांगे तो पंजाब के उपमुख्यमंत्री और अकाली दल के नेता सुखबीर बादल ने लांबी में जनसमर्थन जुटाया , जबकि आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने लुधियाना में जनसभा को संबोधित किया ।

पंजाब की 117 सीटों में 34 विधानसभा सीट सुरक्षित हैं जबकि 83 सामान्य हैं । इन सीटों पर एक करोड़ 92 लाख से ज्यादा मतदाता 1,145 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे । मतदान के लिए पूरे राज्य में 22 हजार 660 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। राज्य में सत्ताधारी शिरोमणि अकाली दल और भाजपा गठबंधन को कांग्रेस जबरदस्त टक्कर दे रही है, तो वहीं पंजाब के चुनावी समर पर पहली बार उतरी आम आदमी पार्टी भी यहां खूब ताल ठोक रही है।

कांग्रेस ने पंजाब की सभी 117 सीटों पर उम्मीदवार उतारे हैं जबकि आप 112 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। सत्ताधारी अकाली दल 94 और उसकी सहयोगी बीजेपी 23 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. इसके अलावा बीएसपी के 111 उम्मीदवार भी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं । पंजाब में अभ शिरोमणि अकाली दल और भाजपा गठबंधन की सरकार है। 117 विधानसभा सीटों में शिरोमणि अकाली दल के पास 56, भाजपा के पास 12, कांग्रेस के पास 46 और अन्य विधायकों के पास 3 सीटें हैं।

चुनाव आयोग ने भी गुरुवार शाम से पूरे पंजाब में निषेधाज्ञा के आदेश जारी कर दिए हैं। यह निषेधाज्ञा गुरुवार शाम पांच बजे से प्रभावी होगी और शनिवार को मतदान समाप्त होने तक जारी रहेगी । रेडियो और टीवी के जरिए प्रचार पर पांबदी रहेगी । संवेदनशील और भीड भरे स्थानों की खास निगरानी होगी । किसी भी चूक के लिए स्थानीय पुलिस जिम्मेदार होगी । मौर मंडी में हुए धमाके के बाद आयोग सुरक्षा पर खास ध्यान दे रहा है । चुनाव आयोग के मुताबिक जनप्रतिनिधित्व अधिनियम की धारा 126 में उपलब्ध प्रावधानों के अनुसार दिशानिर्देश जारी किए गए हैं ।

इस चुनाव में कई दिग्गज उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी है। मुख्यमंत्री और शिरोमणि अकाली दल के प्रमुख प्रकाश सिंह बादल लांबी से उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल जलालाबाद से , राजस्व मंत्री बिक्रम मजीठिया मजीठा से , पूर्व सेना प्रमुख जेजे सिंह पटियाला से , पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह पटियाला शहरी से , कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धु अमृतसर पूर्व से और आम आदमी पार्टी से भगवंत मान जलालाबाद सीट से किस्मत आजमा रहे हैं ।

राज्य के अहम मुद्दों की बात करें किसानों की समस्याएं , कानून व्यवस्था , ड्रग्स और बेरोजगारी चुनावों के अहम मसले हैं । सकुल मिलाकर पंजाब में चुनाव के लिए तैयारियां पूरी हैं और अब सबकी नजरें मतदान पर हैं कि जनता क्या फैसला करती है ।