मूर्तियों की हुई तोड़फोड़ से लेकर क्षेत्रीय लोगों में बढ़ा आक्रोश

शेयर करें:

जबलपुर @ गोहलपुर थानान्तर्गत बधैया मोहल्ला में काली मंदिर व स्थापित मूर्तियों में हुई तोड़फोड़ से क्षेत्रीय लोगों में आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। काली मंदिर एवं दो समुदाय के बीच टकराव होने की आशंका के कारण जनसुनवाई में मंगलवार को क्षेत्रीय लोगों ने अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक को शिकायत देते हुए कहा कि मामला बहुत ही गंभीर और अति संवेदनशील है। क्षेत्र के रहने वाले कुछ लोग दोनों समुदाय के बीच रहकर माहौल खराब करने का काम कर रहे हैं।

दो समुदाय के बीच चल रहे मनमुटाव और तनातनी को गोहलपुर पुलिस हल्के में ले रही है। एक सप्ताह से सुलग रहे विवाद के बीच दो दिन पहले एक युवक के सिर पर फावड़ा से प्राणघातक हमला कर दिया गया। घायल को गंभीर अवस्था में निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है। मंदिर एवं मूर्तियों के टूटने और प्राणघातक हमला होने के बाद भी थाना प्रभारी नहीं पहुंचे।

मंदिर में हुई तोड़फोड़ से आक्रोशित लोग गोहलपुर थाना शिकायत करने पहुंचे तो,थाना प्रभारी ने मामले में समझौता करा देने की बात कही। थाने से लौटकर घर आ रहे चंदन चौहटेल पर लल्ला के लड़के गोलू जानोकर ने फावड़ा से सिर पर हमला कर लहूलुहान कर दिया। चंदन पर हुए हमले के बाद से क्षेत्र में तनाव की स्थिति है।

वार्ड के दर्जनों लोगों ने शिकायत में बताया कि बस्ती में सार्वजनिक महाकाली मंदिर के बाजू से रहने लल्ला जानोकर ने कुछ दिन पहले अपना घर एक मुस्लिम परिवार को बेच दिया गया था। रजिस्ट्री के बाद मकान पर कब्जा होने पर परिवार ने मंदिर में पर्दा डाल दिया। कुछ दिन बाद लोगों ने देखा कि मंदिर में तोड़फोड़ हो रही है, और वहाँ विराजमान मूर्तियां भी गायब है।

मंदिर में तोड़फोड़ एवं चंदन पर हुए प्राणघातक हमले के मामले में आरोपी के खिलाफ प्रकरण पंजीबद्ध किया गया है। क्षेत्रीय लोगों ने सीएसपी दीपक मिश्रा से पूरे मामले की शिकायत की थी। सीएसपी ने मामले की जांच कराने की भी बात कही ,लेकिन कोई भी अधिकारी नहीं पहुंचा। शिकायत में गोहलपुर पुलिस की भूमिका भी संदिग्ध बताईजा रही है। शिकायतकर्ताओं का कहना है कि पुलिस इस संवेदनशील मामले में पीड़ित पक्ष को 5 लाख रूपए लेकर समझौता करने दबाव बना रही है।