नहीं रहे उप्र के पूर्व सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह, यूपी में तीन दिन का राजकीय शोक

शेयर करें:

उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता कल्याण सिंह का निधन हो गया है. कल्याण सिंह राजस्थान के गवर्नर भी रहे थे. कल्याण सिंह का लम्बी बीमारी के बाद निधन हो गया. वह लखनऊ के एसपीजीआई में भर्ती थे. पिछले कई दिनों से कल्याण सिंह की हालत बेहद खराब बता जा रही थी. कल्याण सिंह 89 साल के थे. 5 जनवरी 1932 को यूपी के अतरौली में कल्याण सिंह का जन्म हुआ था. कल्याण सिंह के निधन पर योगी सरकार ने तीन दिन का राजकीय शोक घोषित किया है. यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने बताया कि कल्याण सिंह के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार 23 अगस्त की शाम नरोरा में गंगा किनारे किया जायेगा. सीएम योगी ने 23 अगस्त को अवकाश की घोषणा भी की है.

अस्पताल के अनुसार, कल्याण सिंह के शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था, जिससे उनका निधन हो गया. कल्याण सिंह के निधन से बीजेपी नेताओं में शोक की लहर दौड़ गई. कल्याण सिंह के निधन पर पीएम मोदी ने शोक जताया है. पीएम मोदी ने कहा कि कल्याण सिंह जी ज़मीन से जुड़े नेता थे. उत्तर प्रदेश के विकास में उनका बड़ा योगदान रहा. आने वाले पीढ़ियाँ भी कल्याण सिंह के सांस्कृतिक योगदान को याद रखेंगी. गृह मंत्री अमित शाह ने भी शोक जताते हुए कहा कि कल्याण सिंह रामजन्म भूमि आन्दोलन के हीरो थे

सीएम योगी ने कही ये बात
सीएम योगी ने कल्याण सिंह के निधन पर कहा कि भारतीय राजनीति में शुचिता, पारदर्शिता व जन सेवा के पर्याय, अप्रतिम संगठनकर्ता एवं लोकप्रिय जननेता आदरणीय कल्याण सिंह जी का देहावसान संपूर्ण राष्ट्र के लिए अपूरणीय क्षति है. प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें और शोक-संतप्त परिजनों को दु:ख सहने की शक्ति प्रदान करें. समाज, कल्याण सिंह जी को उनके युगांतरकारी निर्णयों, कर्तव्यनिष्ठा व शुचितापूर्ण जीवन के लिए सदियों तक स्मरण करते हुए प्रेरित होता रहेगा.

ऐसा रहा कल्याण सिंह का सियासी करियर
कल्याण सिंह 1991 में उत्तर प्रदेश के सीएम बने थे. 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया था. 1997 को वह फिर से सीएम बने थे. 1999 में बीजेपी ने उन्हें पद से हटा दिया था. इसके बाद कल्याण सिंह ने बीजेपी छोड़ दी थी. और अपनी पार्टी का गठन किया था. पांच साल बाद 2004 में कल्याण सिंह फिर से बीजेपी में शामिल हुए और बुलंदशहर से सांसद चुने गए. 2009 में कल्याण सिंह ने एक बार फिर बीजेपी छोड़ दी और यूपी के एटा से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर आम चुनाव लड़ा और जीत भी दर्ज की. इसके बाद कल्याण सिंह ने 2014 में फिर से बीजेपी जॉइन की. बीजेपी ने उन्हें राजस्थान का राज्यपाल बनाया था. उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा किया था. 2019 वह फिर से सक्रिय राजनीति में दिखाई दिए थे. बाबरी मस्जिद गिराए जाने के मामले में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने उन्हें क्लीन चित दे दी थी.